शनिवार, 23 अगस्त 2014

चीनी लोग घर में ही बना रहे हैं लैम्बोर्गिनी कार, हेलिकॉप्टर और पनडुब्बियां

चीनी लोग घर में ही बना रहे हैं लैम्बोर्गिनी कार, हेलिकॉप्टर और पनडुब्बियां

चीनी लोग किसी भी चीज की हूबहू नकल करने में माहिर हैं। चीन के तीन लोगों ने घर पर ही हेलिकॉप्टर और लैम्बोर्गिनी कार बना ली है। 
 
लैम्बोर्गिनी कार
 
स्पीड के दीवाने चीन के दो युवकों ने घर पर ही लैम्बोर्गिनी जैसी महंगी कार बना डाली। वांग यू और ली लिंटाओ ने लग्जरी कार लैम्बोर्गिनी डायबेलो के दो रैप्लिका तैयार कर ली है। यह कार 310 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। दस साल की मेहनत और तकरीबन 5 करोड़ रुपए खर्च करने के बाद उन दोनों ने ये कारें बनाई हैं। 
 
खास बातें
 
5 करोड़ रुपए लागत है लैम्बोर्गिनी की रैप्लिका की।
10 साल का समय लगा कार बनने में।
310 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार है कार की। 
 चीनी लोग घर में ही बना रहे हैं लैम्बोर्गिनी कार, हेलिकॉप्टर और पनडुब्बियां
हेलिकॉप्टर
 
सेंट्रल चीन के ग्रामीण इलाके में तैनात एक नेत्र विशेषज्ञ ने घर पर ही हेलिकॉप्टर बना लिया। जियांग चेंगेन (52) ने 2 साल के अंदर खुद ही हेलिकॉप्टर असेंबल कर लिया। 4.0 लीटर वी-8 इंजन वाला यह हेलिकॉप्टर 4 मीटर लंबा है। हालांकि, अभी तक इस हेलिकॉप्टर ने उड़ान नहीं भरी है, लेकिन जियांग इस हेलिकॉप्टर की ज्यादातर कमियां दूर कर चुके हैं और जल्द ही यह आसमान में होगा। 
 
खास बातें
 
दो साल का समय लगा हेलिकॉप्टर बनाने में।
चार मीटर लंबा है होममेड हेलिकॉप्टर। 

चीनी लोग घर में ही बना रहे हैं लैम्बोर्गिनी कार, हेलिकॉप्टर और पनडुब्बियां
चीन के किसान ने पांच महीने में तैयार की पनडुब्बी
 
चीन के तान योंग ने कई साल पहले अपनी पनडुब्बी बनाने का सपना देखा था और पिछले दिनों यह सच भी हो गया। तान ने सिर्फ स्कूली शिक्षा ही ली है, लेकिन इसके बावजूद वह अपना सपना सच करने में कामयाब हो गए। एक टन वजनी इस पनडुब्बी को तैयार करने में उन्हें पांच महीने लगे। तान की इस पनडु्ब्बी की डिजाइन को देख लोग काफी हैरान होते हैं, क्योंकि उन्होंने इसे प्लेन जैसा बनाया है। तान को भरोसा है कि जल्द ही उनकी यह पनडुब्बी काम भी करने लगेगी। 
sabhar : bhaskar.com


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...