शनिवार, 7 जून 2014

चमत्कार! ये औरत अचानक ही बोलने लगी तीन अनजान भाषाएं

हुआ था माइग्रेन

हुआ था माइग्रेन


49 साल की जूली माथहियास की कहानी किसी को भी हैरत में डाल देने के लिए काफी है। हम सभी जानते हैं कि एक भाषा सीखने में ही सालों लग जाते हैं।

डेली मेल 
के मुताबिक मिलिए इस महिला से जो पेशे से एक हेयर ड्रेसर है। उसे कई सालों से सिर में भयंकर दर्द की शिकायत रहती थी। जांच में पता चला कि उसे माइग्रेन है।

साल 2011 में उसे माइग्रेन का इतना भयानक अटैक आया कि उसे हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा। फिर तभी...
अरे ये क्या हो गया?
हॉस्पिटल में माइग्रेन का भयंकर अटैक आने पर जब पहली बार उसने डॉक्टर से बात करना शुरू किया तो वो पता नहीं किस लहेजे में बोलने लगी।

जूली इंग्लैंड के चैथम की रहने वाली थी और बचपन से ही सिर्फ शैव भाषा बोलना जानती थी। 

लेकिन डॉक्टर से बात करने पर वो बोल तो शैव ही रही थी लेकिन बोलने का अंदाज यानी के एक्सेंट किसी विदेशी भाषा जैसा आ रहा था। थोड़ी देर में उसने देखा कि अब वो अपनी भाषा शैव बोल ही नहीं पा रही थी। 

वो तो कुछ ऐसा बोलने लगी कि सुनने वालों को लगता कि वो कभी चाइनीज बोल रही है, कभी इटैलियन और कभी फ्रेंच।

हो गई दुर्लभ बीमारी

इसका इलाल करावाने पर पता चला कि उसे फॉरेन एक्सेंट सिंड्रोम हो गया है। इस बीमारी से दुनिया भर में बस 60 लोग ही पीड़ित पाए गए हैं।

ज्यादातर ये बीमारी होने की वजह कोई जानलेवा स्ट्रोक या फिर भयानक सिरदर्द होता है। जूली के साथ भी ऐसा ही हुआ।

उनकी ऐसी भाषा होने पर कई लोग उन्हें चिढ़ाते हैं। हांलाकि जूली ने अपना पेशा जारी रखा है लेकिन वो ये बताना नहीं भूलती हैं कि उन्हें बहुत जिल्लतों का सामना करना पड़ता है और इसमें उनका कोई दोष नहीं है।� sabhar :
http://www.amarujala.com/



कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...