शुक्रवार, 6 जून 2014

दर्द को समझने वाला रोबोट

जापान आधुनिक तकनीक और तरह तरह के रोबोट्स बनाने के लिए मशहूर है. अब जापान एक ऐसा रोबोट बाजार में उतारने के लिए तैयार है जो आपकी भावनाएं भी समझ सकेगा.

Japan Roboter Pepper

घर के काम काज में या फिर रिसर्च के लिए लैब में मदद करने के लिए तो रोबोट का इस्तेमाल हो ही रहा है, लेकिन इन्हें अब तक मशीनों की ही तरह रखा गया है. वक्त के साथ साथ इनकी तकनीक में इतना विकास हो गया है कि वे भावनाएं भी समझने लगे हैं और एक हद तक दिखाने भी लगे हैं.
जापान की मोबाइल फोन कंपनी सॉफ्टबैंक एक ऐसे ही रोबोट के साथ बाजार में उतर रही है. उम्मीद है कि फरवरी से 'पैपर' नाम का यह रोबोट करीब दो हजार डॉलर में खरीदा जा सकेगा. बिक्री पहले जापान में शुरू होगी और उसके बाद विदेशों में.
टोक्यो में 'पैपर' को लॉन्च करते हुए कंपनी के मालिक और जापान के जाने माने अरबपति मासायोशी सन ने कहा कि रोबोट को 'नरमदिल' होना चाहिए ताकि वे लोगों के चेहरे पर 'मुस्कुराहट' ला सकें. 'पैपर' जब गुनगुनाता हुआ स्टेज पर आया और फिर उसने मासायोशी सन से हाथ मिलाया तो स्टीवन स्पीलबर्ग की फिल्म 'एक्स्ट्रा टेरेस्ट्रियल' के किरदार 'ईटी' की याद आ गयी.
पैपर की प्रोग्रामिंग
सन ने बताया कि 'पैपर' को इस तरह से प्रोग्राम किया गया है कि वह लोगों की आवाज सुन कर और उनके हाव भाव को देख कर भावनाओं को समझ लेता है. यानि आपके पास अपना खुद का एक ऐसा रोबोट दोस्त हो सकता है जो जानता है कि आप खुश हैं या फिर उदास. और उदासी को दूर करने का जिम्मा भी रोबोट का ही होगा. उसे कुछ ऐसा करना होगा कि उदास व्यक्ति भी मुस्कुरा दे.
'पैपर' एक ह्यूमनॉयड है यानि एक ऐसा रोबोट जो इंसानों जैसा ही दिखता है. 28 किलोग्राम भारी और 48 इंच ऊंचे सफेद रंग के इस रोबोट के सिर पर बाल तो नहीं हैं, पर बड़ी बड़ी आंखें किसी खूबसूरत गुड़िया जैसी लगती हैं. 'पैपर' के पूरे शरीर में कई तरह के सेंसर लगे हुए हैं. दो टच स्क्रीन सेंसर उसके हाथ में हैं और तीन सर में. इसके अलावा निचले हिस्से में छह लेजर सेंसर और तीन बंपर सेंसर भी हैं. सिर में दो कैमरे और चार माइक्रोफोन हैं. साथ ही छाती पर एक डिस्प्ले पैनल लगा हुआ है.
हाईटेक 'पैपर' हर वक्त वाईफाई से जुड़ा रहता है और आईफोन के 'सिरी' की तरह आवाज पहचानता है. हालांकि कई बार यह ठीक से जवाब नहीं दे पाता. ऐसे में वह कहता है, "मैं ठीक से सुन नहीं पाया, क्या आप अपना सवाल दोहरा सकते हैं?" कोई चीख चिल्ला कर अपनी भड़ास उतार रहा हो तो वह सांत्वना डेते हुए कहता है, "तुम एक नेक इंसान लगते हो." लॉन्च के दौरान 'पैपर' ने 'आई वॉन्ट टु बी लव्ड' गाना गा कर लोगों का दिल जीता.
आईबी/एमजे (एपी) sabhar :http://www.dw.de/


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...