रविवार, 24 जून 2012

अप्रैल में सोई लड़की जून में नींद से जागी!


स्लीपिंग ब्यूटी सिंड्रोम
एक लड़की अप्रैल में सोई थी, जो अब पिछले सप्ताह उठी है.
इस दौरान वह अपनी परीक्षा नहीं दे पाई और अपना जन्म दिन भी नहीं मना पाई.
लंदन के एक समाचार पत्र के मुताबिक 15 वर्षीय स्टेसी कॉमरफोर्ड को स्नायु से सम्बंधित समस्या है, जिसका अर्थ यह है कि वह एक बार में महीनों तक सोती रहती है.
वह क्लीन लेविन सिंड्रोम से पीड़ित दुनिया के एक हजार व्यक्तियों में से एक है, जिसे स्लीपिंग ब्यूटी सिंड्रोम भी कहा जाता है.
दो महीने की नींद में किशोरी नौ परीक्षाओं में शामिल नहीं हो पाई. स्टेसी कहती है कि इस स्थिति के लिए अक्सर उसका मजाक उड़ाया जाता है.
उसने कहा, "मैं नौ परीक्षा नहीं दे पाई और अपना जन्मदिन नहीं मना पाई. अब थोड़ी आसानी होती है, क्योंकि लोग अब समझने लगे हैं कि यह क्या है. अब लोगों को समझाना आसान है. पहले वे मुझ पर विश्वास नहीं करते थे, जो मेरे लिए सबसे कठिनाई की बात थी."

अपना डीएनए चुराने से रोकना चाहतीं हैं मैडोना


अपना डीएनए चुराने से रोकना चाहतीं हैं मैडोना

पॉप गायिका मैडोना ने कथिततौर पर अपने प्रत्येक शो के बाद अपने ड्रेसिंग रूम को अच्छी तरह साफ करने का आदेश दिया है.
इसके पीछे अहम वजह यह बताई जा रही है कि मैडोना अपने प्रशंसकों को अपना डीएनए चुराने से रोकना चाहतीं हैं.
‘मिरर ऑनलाइन’ की रिपोर्ट के अनुसार ‘द मैटेरियल गर्ल’ अपने सनकी प्रशंसकों को लेकर चिंतित हैं.
उन्होंने अपनी त्वचा या लार के जरिए छोड़े गए डीएनए के किसी भी निशान को साफ करने के लिए एक दल का गठन किया है.
53 वर्षीय गायिका ने मांग की है कि नेपथ्य (बैकस्टेज) में आने की सिर्फ उन्हें और उनके अनुगामी लोगों को अनुमति दी जाए.
एकबार ड्रेसिंग रूम तैयार हो जाने के बाद किसी को भी उधर झांकने की अनुमति नहीं दी जाए. sabhar : samaylive.com

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...