गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

पति ने कोठे पर पहुंचाया, सेक्स वर्कर्स ने बचाया




मुंबई ।। अपनी नव विवाहिता पत्नी को धोखे से वेश्यालय में बेचने की कोशिश कर रहे एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पति की कुटिल चालों से अनजान पत्नी को वहां की कॉल गर्ल्स ने ही बचाया।

मिली जानकारी के मुताबिक 24 वर्षीय ललन अकरम शेख मुंबई के रेडलाइट एरिया कमाठीपुरा में अपनी पत्नी को बेचने पहुंचा। उसने मुर्शिदाबाद (बंगाल) के अपने गांव में दो महीने पहले ही शादी की थी। उसने लड़की के घर वालों को झूठ बताया था कि वह मुंबई में एक जूलरी शॉप में काम करता है, 12000 रुपए महीने कमाता है और जल्द ही उसका प्रमोशन भी होने वाला है।

गांव से मुंबई आई उसकी युवा पत्नी को जरा भी एहसास नहीं था कि पति उसके साथ कैसा घिनौना खेल खेलने वाला है। जब शेख वेश्यालय मालिकों से सौदेबाजी कर रहा था, तब आसपास खड़ी सेक्स वर्कर्स को शक हो गया। उन लोगों ने लड़की का मासूम चेहरा देखा और उन्हें समझ में आ गया कि पति इस लड़की को देह व्यापार के दलदल में धकेलने की तैयारी कर चुका है। इन सेक्स वर्कर्स ने पुलिस कंट्रोल को फोन कर दिया।

इस सूचना के आधार पर पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई। शेख को गिरफ्तार कर लिया गया। नागपाड़ा पुलिस स्टेशन के सीनियर इंस्पेक्टर संजय कदम ने बताया कि शेख की पत्नी हिन्दी और अंग्रेजी नहीं समझ पाती। उसे पुलिस उसके गांव वापस भेजने की सोच रही है। जबकि, शेख के बारे में यह पता करने की कोशिश हो रही है कि क्या उसने पहले भी कुछ महिलाओं को बेचा है।

जब इस बारे में पुलिस बुलाकर उस महिला को बचाने वाली सेक्स वर्कर्स से यह पूछा गया कि उन्होंने क्यों उस महिला को इस धंधे में आने से रोका, तो नाम न छापने के अनुरोध के साथ उन्होंने बताया कि वह जानती हैं इस दलदल में जीना कैसे मौत से भी बदतर हो जाता है। ऐसे में वह नहीं चाहती थीं कि उनकी तरह कोई और मासूम महिला जबरन यहां के जुल्मों का शिकार हो।
 स्रोत :   नवभारत टाईम्स.काम 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...