रविवार, 5 सितंबर 2010

हर भारतीय पर ८५०० रुपये का कर्ज

एक अरब से अधिक आबादी और ३७ % गरीबी के बीच भारत के हर नागरिक पर करीब ८५०० रुपये का विदेशी कर्ज है यानी अगर कोई बच्चा जन्म लेता है तो वह भी करीब इतने कर्ज के बोझ से दबा होगा एक आर्थिक समीछा के अनुसार भारत का विदेशी कर्ज मार्च २००९ तक २२४ अरब डालर था यदि इसका एक ब्यक्ति का आधार बनाया जाय तो हर नागरिक पर करीब ८५०० रुपये का कर्ज बैठेगा

कोरोना में सफलता की कहानी:15 हजार से शुरू किया था कारोबार, IT कंपनी खड़ी की, अब अमेरिका के 3.5 लाख करोड़ टर्नओवर वाले ग्रुप में शामिल

(गीतेश द्विवेदी) कोविड दौर में आईटी सेक्टर से बड़ी खबर आई है। इंदौर की आईटी कंपनी नार्थआउट को अमेरिका के बड़े ग्रुप एचआईजी की सहयोगी कंपनी ईज ...