Loading...

शनिवार, 12 अप्रैल 2014

मध्ययुग में प्रताड़ना के खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

0

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें


मध्ययुग को कभी अच्छा नहीं माना गया। यूं कह लें कि बर्बरता का दूसरा नाम था 'मध्ययुग'। शरीर के अंगों पर जानलेवा प्रहार करने से लेकर उसे छिन्न-भिन्न करने का आदेश देना उन दिनों आम बात हुआ करती थी। किसी ने गलती से भी अगर जुर्म कर दिया और जुर्माना देने में असमर्थ साबित होता, तो उसे खौफनाक अंजाम से गुजरना पड़ता था। व्यक्ति की जीभ-होठ काट दिए जाते थे।
 
प्रताड़ना की ये तो इंतिहा है
 
पीड़ित को बेरहमी से मौत के घाट उतारा जाता था। इस युग के अधिकांश लोग गरीबी व बीमारी के चपेट में थे। उन पर जमींदारों का जोर चलता था। इसके अलावा वे जमींदारों के गुलाम हुआ करते थे। आइए, नजर डालते हैं मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीकों पर, जिसे पढ़कर आपकी भी रूह कांप उठेगी। 
 
धारदार पोल घुसेड़ देते
 
15वीं सदी में व्लाद तृतीय वालाशिया का राजकुमार था। व्लाद को ड्रैकुला नाम से भी जाना जाता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि वह बेहद निर्दयी था। अपराध सिद्ध होने पर वह धारदार पोल को पीड़ित की शरीर के आर-पार करने का हुक्म सुनाता था। पोल की मोटाई इतनी होती थी कि उसे देख किसी भी इंसान की रूह कांप उठे।
 
जिस शख्स को ये सजा मिलती थी, उसे जबरन धारदार पोल पर बैठने के लिए मजबूर किया जाता था। पोल धीरे-धीरे उसके शरीर को चीरता हुआ निकल जाता था। तीन दिन की असहनीय पीड़ा झेलने के बाद आखिरकार पीड़ित की मौत हो जाती थी। व्लाद इस कदर जालिम इंसान था कि खाना खाते वक्त उसे ऐसा देखने में बड़ा आनंद आता था। जरा सोचिए, तब हैवानियत किस कदर सिर चढ़कर बोलती थी। 

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

जूडस क्रैडल यानी यहूदी पालना
 
यहूदी पालना एकबारगी देखने में धारदार पोल से जरा कम कष्टदाई लगे, लेकिन ये इंसान को तड़पा-तड़पा कर मारने वाला हथियार था। लोगों को नग्न कर यहूदी पालने में बिठाया जाता था। प्रताड़ना की ये प्रक्रिया बेहद खौफनाक होती थी। पीड़ित को तीन जगह से बंधे एक रिंगनुमा खाली सीट पर लटका दिया जाता था। फिर इसके नीचे यहूदी पालने को लगाया जाता। इस दौरान पीड़ित के पैर को रस्सी से बांध दिया जाता था, जिसे नीचे खड़े कुछ लोग पकड़े होते थे। सजा का आदेश मिलते ही, लोग रस्सी को एकदम से खींच देते। गौरतलब है कि स्त्री को उलटा और पुरुष को सीधे इस जानलेवा हथियार पर बिठा कर सजा दी जाती थी। इस सजा के दौरान लोग घंटों रस्सी को खींचते रहते थे।
 धातु का पिंजड़ा
 
इसे कॉफिन प्रताड़ना कहा जाता था। मध्ययुग में ये काफी प्रचलित था। अगर आपको ध्यान हो तो किसी हॉलीवुड फिल्म में आपने इस तरह से सजा देते हुए देखा होगा। पीड़ित को इस पिंजरे में कैद किया जाता था, ताकि वह अपनी जगह से हिल भी न सके। इसके बाद पिंजड़े को किसी पेड़ से लटका दिया जाता था। इस तरह की सजा ईशनिंदा जैसे गंभीर अपराध के लिए दी जाती थी। पीड़ित को या तो आदमखोर जानवर काट खाते या फिर वह पक्षियों का निवाला बनता था। हालांकि, देखने वाले पीड़ित का दर्द बढ़ाने के लिए उस पर पत्थरों से भी हमला करते थे। 

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

हड्डीतोड़ शैय्या
 
मध्ययुग में इस प्रताड़ना को सबसे दर्दनाक माना जाता था। हड्डीतोड़ शैय्या एक लकड़ी का फ्रेम है। इसमें लकड़ी के दो पट्टे ऐसे होते थे, जो लीवर के सहारे ऊपर की ओर उठाए जाते थे। लीवर शैय्या के दोनों ओर होता था। दोनों पट्टों पर नुकीली कीलें होती थीं। सजा देते वक्त पीड़ित के हाथ-पांव बांध कर उसे इस पर लिटा दिया जाता था। फिर शुरू होता था प्रताड़ना का खेल। शैय्या के दोनों ओर एक-एक व्यक्ति लीवर को मजबूती से उठाता और जैसे-जैसे पट्टा उठता पीड़ित की हड्डियां कड़कड़ाहट की आवाज के साथ टूटती जातीं। ये खेल तब तक चलता, जब तक पीड़ित दम नहीं तोड़ देता।

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें
ब्रेस्ट रिपर
 
ये प्रताड़ना सिर्फ महिलाओं को दी जाती थी। अगर कोई महिला दूसरे पुरुष के साथ अंतरंग संबंध बनाती पाई जाती या फिर उस पर इस तरह का आरोप साबित होता, तो ब्रेस्ट रिपर के जरिए उसे प्रताड़ना दी जाती थी। रिपर को महिला के ब्रेस्ट से लगाकर जोर से दबा दिया जाता था। हालांकि, हैवानियत की इंतिहा इतनी ही नहीं, चिमटानुमा इस हथियार को आग पर तपाया जाता था। इस प्रताड़ना के दौरान पीड़िता के उभार को पूरी तरह से निकाल बाहर किया जाता था।  

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

घातक हथियार
 
तस्वीर में देख आप अंदाजा लगा सकते हैं कि छोटा-सा ये हथियार पीड़ित के लिए कितना कष्टदायक साबित हो सकता है। इस हथियार का इस्तेमाल केवल महिलाओं को सजा देने के लिए किया जाता था। ये सजा उन महिलाओं की दी जाती थी, जिन पर समलैंगिक होने या फिर बच्चा गिराने का आरोप सिद्ध होता था। ये नुकीला हथियार दो हिस्सों में बंट जाता है। इस सजा से शायद ही कोई महिला बच पाई थी।

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

ब्रेकिंग व्हील
 
ब्रेकिंग व्हील को कैथरीन व्हील के नाम से भी जाना जाता था। इससे पीड़ित जिंदा नहीं बचता था। लेकिन ये उसे इतना तड़पा कर मारता था कि देखने वालों की रूह कांप उठती थी। पीड़ित को व्हील से बांध कर उस पर हथौड़े से तब-तक प्रहार किया जाता था, जब तक उसके शरीर की हड्डियां टूट नहीं जातीं। फिर मरने के लिए उसे छोड़ दिया जाता। ऐसा भी कहा जाता है कि जिन पर दया आ जाती, उनकी सिर्फ छाती और पेट पर ही हथौड़े से वार किया जाता था। हालांकि, पीड़ित किसी भी सूरत में जिंदा नहीं बचता था।
मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें
आरी प्रताड़ना
 
ये सजा पीड़ित को घोर व गंभीर अपराध के लिए दी जाती थी। इसमें एक खंभे के सहारे पीड़ित का पैर बांधकर उसे उलटा लटका दिया जाता था। फिर जो होता था, उसे आप तस्वीर में देख सकते हैं। महिलाओं के साथ भी ऐसा ही किया जाता था।

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

हेड क्रसर
 
तस्वीर में आप देख सकते हैं कि एक टोपीनुमा यंत्र प्रताड़ना के लिए बनाया गया है। पीड़ित का सिर इस टोपी से जकड़ दिया जाता था। इसके बाद एक व्यक्ति धीरे-धीरे लीवर को घुमाने लगता था। जैसे-जैसे लीवर घूमता, टोपी से लगे रॉड पास आते जाते। फिर एक झटके में पीड़ित का सिर आवाज के साथ फट जाता।
 

मध्ययुग में प्रताड़ना के 10 खौफनाक तरीके, देखें तस्वीरें

नी स्प्लिटर
 
इस हथियार को देखते ही आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ये कितना खतरनाक होगा। इसे नी स्प्लिटर कहते हैं। मतलब, पैरों को कुचलते हुए बेरहमी से अलग कर देने वाला हथियार। sabhar :http://www.bhaskar.com/


Read more

वजन घटाने से लेकर जवां त्वचा तक, जानें तरबूज के 7 बड़े फायदे

0

गर्मियों में फायदों से भरा है खरबूज

गर्मियों में फायदों से भरा है खरबूज


प्यास बुझाने से लेकर पोषण तक, गर्मियों के फल तरबूज के फायदे ढेर सारे हैं।

इसमें मौजूद 92 प्रतिशत पानी न सिर्फ इस मौसम में आपको डीहाइड्रेशन से बचाता है बल्कि इसमें ऐसे कई पोषक तत्व हैं जो आपके लिए सेहत से जुड़े कई फायदों का सबब है।

वजन घटाने में फायदेमंद

तरबूज में मौजूद सिट्रयूलाइन नामक तत्व शरीर से फैट्स कम करने में मददगार है। यह फैट्स बनाने वाली कोशिकाओं की सक्रियता कम करता है। इसके अलावा, इसमें पानी अधिक है जो डाइटिंग के दौरान बेहतरीन विकल्प है।

दिल और हड्डियों के रोग में फायदेमंद

तरबूज में मौजूद लाइकोपीन दिल और हड्डियों, दोनों की सेहत के लिए फायदेमंद है। यह शरीर में रक्त संचार ठीक करता है जिससे दिल से जुड़े रोगों का रिस्क कम होता है।

इसके अलावा, तरबूज में अच्छी मात्रा में पोटेशियम है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है।

जवां त्वचा के लिए

तरबूज में भरपूर मात्रा में पानी, फ्लेवनॉयड्स, कैरीटोनॉयड्स आदि तत्व होते हैं जो त्वचा के कसाव को बरकरार रखने और लंबे समय तक एजिंग के निशानों को दूर रखने में मददगार हैं।

किडनी के लिए फायदेमंद

तरबीज युरीन के फ्लो को ठीक रखता है और लिवर की प्रक्रिया सुचारु रखता है। इसके सेवन से पाचन ठीक तरह से होता है और किडनी से जुड़े रोगों का रिस्क कम होता है।

मांसपेशियों के लिए फायदेमंद

तरबूज में पोटैशियम अच्छी मात्रा में होता है जो शरीर में नर्वस सिस्टम और मांसपेशियों की सेहत के लिए जरूरी है। इसके सेवन से मांसपेशियों से जुड़ी समस्याओं से बचा जा सकता है।

प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाता है

तरबूज में अल्काइन अधिक मात्रा में होते हैं जो शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाते हैं और बुखार व संक्रमण से दूर रखने में मददगार होते हैं।

आंखों के लिए फायदेमंद

तरबीज में बीटा कैरोटीन है जो रतौंधी और मोतियाबिंद जैसे रोगों से बचाव में मददगार है। इसका नियमित सेवन आंखों के लिए बेहद फायदेमंद है।

sabhar : http://www.amarujala.com/

Read more

कम खाओ, लंबी उम्र जियो

0

कम खाओ, लंबी उम्र जियो

न्यूयॉर्क: बंदर की लंबी उम्र का राज यह है कि वे कम कैलोरी का खाना खाते हैं। जो लोग जी भरकर खाते हैं उनके मुकाबले बंदर ज्यादा समय तक जिंदा रहते हैं। यह बात एक अनुसंधान में सामने आई है। विभिन्न प्रजातियों में जीवित रहने पर किए गए अध्ययन में यह पता लगाया कि इसमें खुराक पर बंदिश का क्या प्रभाव पड़ता है।

विस्कोन्सिन नेशनल प्रीमेट रिसर्च सेंटर मेडिसन में 1989 से किए जा रहे अध्ययन में 38 मैकाकुएस को जो भी खाना चाहते थे, दोगुना खाने दिया गया और 38 बंदरों को 30 प्रतिशत कम कैलोरी दी गई। इसी प्रकार का अध्ययन 2009 में किया गया जिसमें बंदरों को कैलोरी प्रतिबंधित खुराक दी गई जिससे उम्र संबंधी कारणों से उनकी मौत का खतरा कम पाया गया।

अध्ययन का नेतृत्व करने वाले विस्कोन्सिन विश्वविद्यालय में जैवरसायनज्ञ रोजाल्यन एंडर्सन ने कहा, हमने इस अवधारणा की जांच की कि क्या कैलोरी पर प्रतिबंध उम्र की प्रक्रिया को कम करता है? और मैं समझता हूं कि हमने यह दिखाया कि यह होता है। (एजेंसी) sabhar ;http://zeenews.india.com/

Read more

शुक्रवार, 11 अप्रैल 2014

मॉडल पत्‍नी का कोमोत्तेजक फोटो शूट देख पति ने दी मौत की सुपारी ..

0

एक मॉडल और दो बेटियों की मां का दावा है कि उसका करोड़पति पति उसके काम करने को लेकर नाराज था. यही नहीं वह अपनी पत्‍नी के कामोत्तेजक फोटो शूट से इतना जल गया था कि उसने एक शूटर को 80,000 अमेरिकी डॉलर यानी कि करीब 48 लाख रुपये की सुपारी देकर उसे मरवाने की साजिश तक रच डाली.
खबर के मुताबिक अमेरिका में रहने वाली 32 साल की मोनिका ने अपनी उम्र से बड़े बिजनेस टाइकून डीनो गुगलिएलमेली से शादी करने के लिए साल 2003 में अपने मॉडलिंग करियर को अलविदा कह दिया. लेकिन दो बेटियों के हो जाने के बाद वह काम पर वापस जाना चाहती थी. उसने साल 2010 के आखिर में फिर से अपना एक्टिंग और मॉडलिंग करियर शुरू करने के बारे में सोचा. लेकिन पति ने इसकी मंजूरी नहीं दी.



जांच से जुड़े एक करीबी सूत्र के मुताबिक जब डीनो को पता चला कि मोनिका ने एक अंडरवियर शूट करवाया है तो वह गुस्‍से से आग बबूला हो गया. उनके रिश्‍ते में दरार आ गई और वे दोनों बेटियों की कस्‍टडी पाने के लिए आपस में झगड़ने लगे. इस बीच, मोनिका को यह पता लग गया था कि उसके पति ने अपने एक दोस्‍त को उसकी हत्‍या की सुपारी दी है.

हत्‍या की कोशिश के आरोप में 52 वर्षीय डीनो को अगले महीने ट्रायल का सामना करना होगा.

 

एक सूत्र के मुताबिक, 'मोनिका का पति जलन से भर गया था. वह इस बात को नहीं पचा पा रहा था कि मैक्सिम जैसी मैगजीन पर लोग उसकी पत्‍नी की कामोत्तेजक तस्‍वीरें देख रहे हैं. जब उसने साल 2012 में केनेथ मेथ्‍यू के साथ मोनिका का फोटो शूट देखा तो वह गुस्‍से से पागल हो गया. वह एक प्रोफेशनल फोटो शूट था, जिसे लॉस एंजेलिस के एक स्‍टूडिया में शूट किया गया था. फोटो शूट के दौरान वहां असिस्‍टेंट, मेकअप आर्टिस्‍ट और स्‍टाइलिस्‍ट मौजूद थे. लेकिन डीनो ने मोनिका पर केनेथ के बेहद करीब होने का आरोप लगाया. हां, फोटो कोमोत्तेजक थीं, जिसे मोनिका ने अंडरवियर पहनकर शूट किया था'.

 

सूत्र ने कहा, 'डीनो ने मोनिका से साफ-साफ कह दिया कि अब वह कोई फोटो शूट नहीं करेगी और घर पर रहकर दोनों बेटियों की देखभाल का जिम्‍मा उठाएगी. लेकिन मोनिका काम करना चाहती थी. हालात और खराब होने लगे. उसने मोनिका पर कई तरह की पाबंदियां लगा दीं. अब मोनिका ने फैसला कर लिया कि वह अपने पति को छोड़ देगी. इस बात पर डीनो पूरी तरह बिगड़ गया. और फिर उसने तथाकथित रूप से एक शख्‍स को मोनिका की हत्‍या की सुपारी दे डाली'.

 

मोनिका को मरवाने के लिए डीनो ने पूर्व सेना अधिकारी रिचर्ड को करीब 48 लाख रुपये की सुपारी दी. लेकिन रिचर्ड ने पुलिस को सारी बात बता दी. फिर एक योजना के तहत रिचर्ड ने चुपचाप लंच के दौरान 90 मिनट तक डीनो की सारी बातें रिकॉर्ड कर लीं, जिसमें उसे यह कहते हुए सुना गया कि जब काम हो जाएगा तब वह बहुत खुश होगा. यही नहीं उसने रिचर्ड से यह भी कहा, 'तुम्‍हें तुम्‍हारे काम की पूरी कीमत मिलेगी. चिंता मत करो, मैं तुम्‍हरा बचाव करूंगा'.




डीनो फिलहाल जेल में है, लेकिन मोनिका का कहना है कि सलाखों के पीछे होने के बावजूद वह उसे मरवाने की कोशिश कर रहा है. बहरहाल, अब मोनिका एक बार फिर एक्टिंग ऑर मॉडलिंग के करियर में अपना ध्‍यान लगाना चाहती हैं.










और भी...sabhar : http://aajtak.intoday.in/

Read more

आपसे बात करेगी कार

0




अब जमाना है सुपर स्मार्ट कार का. ऐसी कार, जो आपकी बात सुन ले और समझ ले कि उसे कहां जाना है. कब रुकना है.
जर्मनी की कार्ल्सरूहे यूनिवर्सिटी ने इस तरह की कार तैयार कर ली है. जाहिर सी बात है कि यह इंटरनेट से जुड़ी है और इशारों पर चल सकती है. कार के कैमरे आस पास की चीजें देख सकते हैं और कंप्यूटर खुद स्टीयरिंग घुमाने लगता है. सेंसर इतने कड़े हैं कि अगर पास से ट्रक गुजर रहा हो, तो कार का सेंसर इसे पकड़ लेता है. कार रुक जाती है, या रास्ता बदल लेती है.
कार विकसित करने वाले कार्ल्सरूहे यूनिवर्सिटी के क्रिस्टोफ श्टिलर कहते हैं कि इससे हादसे कम होंगे, "भविष्य की गाड़ी में 100 मेगाबाइट जितना डाटा प्रॉसेस करना होगा. इस वक्त तो यह इतना ज्यादा डाटा है, कि हम इसके बारे में सोच भी नहीं सकते. लेकिन कंप्यूटर तकनीक तेजी से बेहतर हो रही है और जल्द ही आप डाटा प्रॉसेस करके गाड़ी को कमांड दे सकेंगे."
कार बदलेगी तो सड़क पर चलने वाले ट्रैफिक का बर्ताव भी बदल जाएगा. सॉफ्टवेयर कंपनियां इस ताक में हैं कि कब नई गाड़ी बाजार में आए और वे कैसे नए सॉफ्टवेयर तैयार कर लें. इंटरनेट पर भविष्य की ट्रैफिक व्यवस्था की बानगी दिख सकती है. कारें आपस में संपर्क करेंगी, एक दूसरे से जुड़ी होंगी, आपस में सूचनाएं बांटते हुए आगे बढ़ेंगी, ताकि किसी तरह का हादसा न हो.


लेकिन सभी गाड़ियां एक दूसरे से तभी जुड़ेंगी, जब उनके बीच इंटरनेट कनेक्टिविटी हो. इंटरनेट से चलने वाली गाड़ियों का सपना बहुत जल्दी पूरा हो सकता है. जर्मन टेलिकॉम कंपनी के एक्सपर्ट हॉर्स्ट लेओनबर्गर का कहना है, "भविष्य में अलग तरह की कंपनियां भी इस उद्योग में आएंगी. गूगल तो अभी से शामिल है और यह उद्योग और सेवाएं उपलब्ध कराएगा. मेरे हिसाब से क्रांति आती दिख रही है, किस तरह कार उद्योग ऑनलाइन और इंटरनेट जगत में अपने को शामिल करेगा और अपने लिए जगह बनाएगा."

लेकिन सिर्फ सॉफ्टवेयर गाड़ी नहीं चला सकते. उसके लिए एक गाड़ी भी होनी चाहिए. यानी दोनों क्षेत्रों को ज्यादा सहयोग करने की जरूरत है. अगर ऐसा हुआ तो हो सकता है कि सड़कों पर कार अपने आप चलती जाए, और आप पिछली सीट पर बैठ कर दफ्तर के काम निपटा दें या फिर लूडो खेल लें. sabhar :http://www.dw.de/

Read more

लैब में बनेंगे असली हीरे

0

अंग्रेजी की एक कहावत है कि हीरा लड़कियों का सबसे अच्छा दोस्त होता है. हीरे के गहनों से सजना संवरना तो ठीक है लेकिन ऑपरेशन थिएटर से लेकर कई और जगहों पर भी हीरा बहुत काम आता है. अब मनचाहे हीरे लैब में भी बनाए जा रहे हैं.

Diamant aus dem Plasmareaktor

हीरों में सिर्फ आंखों को चौंधियाने वाली चमक ही नहीं होती बल्कि बेहद कठोर होने के उसके गुण के कारण विज्ञान और उद्योग जगत में इनकी खासी मांग है. प्रकृति में हीरों का भंडार सीमित है और मांग को पूरा करने में एक नई तकनीक से मदद मिल सकती है.
दरअसल प्रकृति में पाए जाने वाले हीरे बहुत ऊंचे तापमान और दबाव वाली स्थिति में अरबों साल में जाकर बनते हैं. जर्मनी के फ्राउनहोफर इंस्टीट्यूट ने ऐसी तकनीक विकसित की है जिससे वैज्ञानिक बहुत कम समय में हीरे बना पा रहे हैं. इससे मनचाहे आकार, आकृति, रंग और विद्युतीय या ताप की चालकता वाले हीरे बनाना संभव हो गया है.
हीरे के बड़े टुकड़े बनाने हों या उसकी पतली सी परत, इस तकनीक से यह सब संभव है. सीवीडी, यानि केमिकल वेपर डिपोजिशन नाम की इस प्रक्रिया से बहुत कम समय में हीरे तैयार किए जा सकते हैं. हीरे के वेफर के आकार की एक पतली परत बनाने में सिर्फ 100 घंटे लगते हैं. वहीं अगर हीरे के नैनो क्रिस्टल बनाने हों तो केवल कुछ घंटे ही लगेंगे.
 Fraunhofer Institut synthetische Diamanten
हीरे की पतली से पतली परत बनाई जा सकती है
सिर्फ गहनों में ही नहीं
फ्राउनहॉफर आईएएफ की ग्रुप मैनेजर, निकोला हाइड्रिष बताती हैं कि जितनी मोटाई का हीरा चाहिए उतना ही समय लगेगा, "हम केमिकल वेपर डिपोजिशन का तरीका अपनाते हैं जिससे बाकी प्रक्रियाओं के मुकाबले एक काफी बड़ी सतह पर हीरे जमाए जा सकते हैं. इस प्रक्रिया से हम बहुत बढ़ियां क्वालिटी के हीरे बना पा रहे हैं जिनका इस्तेमाल इलेक्ट्रानिक उपकरणों में भी किया जा सकता है."
 Fraunhofer Institut synthetische Diamanten in einer Uhr
घड़ी के डायल में भी इस्तेमाल होता है हीरा
हीरे का इस्तेमाल ऑपरेशन में काम आने वाले डॉक्टरों के कुछ खास उपकरणों में होता है. इसके अलावा ड्रिलिंग और स्टील जैसी कठोर चीज को भी आसानी से काटने में इसका इस्तेमाल होता है. हीरा ताप या गर्मी का भी बहुत अच्छा चालक है.
सभी के लिए हीरा
घड़ी के डायल में भी हीरे का इस्तेमाल होता है. वैज्ञानिक प्रक्रियाओं और मशीनों में इस्तेमाल के अलावा भविष्य में इन कृत्रिम हीरों का इस्तेमाल गहनों में भी किया जा सकेगा. हीरे में अलग अलग तरह के तत्व मिलाकर मनचाहे रंग का हीरा भी पाया जा सकता है. जैसे बोरॉन मिलाने से नीला, नाइट्रोजन मिलाने से पीला और एक खास प्रक्रिया से हीरे में 'नाइट्रोजन वेकेंसी सेंटर' बनाने से गुलाबी रंग का हीरा बन सकता है.
फिलहाल इस कृत्रिम तरीके से बना हीरा प्रकृति में पाए जाने वाले हीरों से भी महंगा पड़ेगा. अगर उद्योग जगत आगे आकर इस वैज्ञानिक तकनीक को अपनाता है और बड़े स्तर पर हीरों का उत्पादन होने लगता है तो वह दिन दूर नहीं जब हीरा सिर्फ सदा के लिए ही नहीं, सभी के लिए भी होगा.
रिपोर्ट: ऋतिका राय
संपादन: ईशा भाटिया

Read more

अब सूरज की रोशनी से ही तैयार हो जाएंगे सोलर सेल

0

अब सूरज की रोशनी से ही तैयार हो जाएंगे सोलर सेल

सोलर सेल सूरज से ऊर्जा ग्रहण करते हैं लेकिन क्या हो अगर सूरज के प्रकाश से ही इन सोलर सेल्स को तैयार किया जा सके।

शोधकर्ताओं ने एक ऐसी प्रणाली विकसित कर ली है जिसके जरिये सूरज खुद ब खुद सौर ऊर्जा सामग्री का उत्पादन करेगा। पारंपरिक सिलिकन सेल की तुलना में कम लागत वाले, पहले से ज्यादा पतले इन सेल्स का इस्तेमाल बहुत जल्द ऊर्जा उत्पादन के लिए इमारतों के अंदर कोटिंग के रूप में किया जा सकेगा।
ओरेगन स्टेट यूनिवर्सिटी के केमिकल इंजीनियरों की इस खोज से बहुत ही जल्द सौर ऊर्जा की लागत को कम किया जा सकेगा। इस तकनीक से उत्पादन प्रक्रिया में तेजी भी लाई जा सकेगी और सौर उपकरणों व उन्हें चार्ज करने वाली ऊर्जा दोनों के लिए ही सूरज को साधन बनाया जा सकेगा। यूनिवर्सिटी में केमिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर चिह हुंग चांग ने कहा कि यह प्रणाली पर्यावरण के अनुकूल है। इसके जरिये कुछ ही मिनटों में सौर ऊर्जा सामग्री तैयार की जा सकती है जबकि दूसरे प्रक्रियाओं में इसे तैयार करने में 30 मिनट से दो घंटे का समय लगता है। उत्पादन प्रक्रिया में तेजी आने से लागत में कमी आएगी।' इस प्रक्रिया में कॉपर इंडियम डिसेलेनाइड से सौर सामग्री का निर्माण किया गया है। इसके अलावा तांबा, जस्ता, टिन और सल्फाइड के यौगिक का इस्तेमाल भी किया जा सकेगा।sabhar ; bhaskar.com
और पढ़ें: http://hindi.ruvr.ru/news/2014_04_04/270808094/

Read more

पहला सोलर विमान बिना ईंधन भरेगा उड़ान

0

दुनिया का पहला सोलर विमान बिना ईंधन भरेगा उड़ान, देखें तस्वीरें

बर्न. स्विट्जरलैंड के दो दिग्गज पायलटों आंद्रे वुर्सबर्ग और बेट्रेंड पैकर्ड ने अपनी टीम के साथ मिलकर दुनिया के एकमात्र ऐसे सोलर प्लेन का निर्माण किया है जो दिन और रात दोनों समय बिना किसी फ्यूल सपोर्ट के उड़ सकेगा। स्विट्जरलैंड के रक्षामंत्री यूली म्यूरर ने बुधवार को एक समारोह में इस सोलर प्लेन (इम्पल्स-2) का अनावरण किया गया। अगले कुछ महीनों में फ्लाइट टेस्टिंग भी शुरू हो जाएगी। इससे पहले भी यह टीम छोटी-छोटी चार यात्राओं पर जा चुकी है। 
भारत से गुजरेगा विमान
 
विश्व भ्रमण मिशन- 2015 की शुरुआत फारस की खाड़ी के रेगिस्तान से होकर भारत, म्यांमार, चीन की विश्व प्रसिद्ध दीवार और अमेरिका, दक्षिणी यूरोप और उतरी अफ्रीका से गुजरेगा जो वापस फारस की खाड़ी में आकर समाप्त हो जाएगा। विमान के रुकने का स्थान अभी तय नहीं हुआ है।
 
यात्रा से देते हैं संदेश
 
स्वीट्जरलैंड के दोनों पायलट पूरी दुनिया को सौर ऊर्जा के उपयोग का संदेश देते हैं। ऊर्जा के इस विकल्प का पुरजोर समर्थन करने वाले ये पायलट अपने आविष्कार और एडवेंचर उड़ानों से इसे और मजबूती के साथ लोगों के समक्ष रखते हैं। युवाओं पर इनका खास जोर रहता है। 

दुनिया का पहला सोलर विमान बिना ईंधन भरेगा उड़ान, देखें तस्वीरें

पायलटों की जरूरतें 
 
> 4 से 5 दिन उड़ सकेगा प्रत्येक पायलट
> 2.4 किलोग्राम खाने की होगी रोजाना जरूरत
> 2.5 लीटर पानी की होगी जरूरत
> 01 लीटर स्पोट्र्स ड्रिंक हर रोज लगेगा 
> इमरजेंसी के दौरान पॉयलट की सीट में पैराशूट और लाइफ रैफ्ट लगे हुए हैं।
sabhar :http://www.bhaskar.com/

Read more

पता चल गया, शरीर में आत्मा आखिर कहां रहती है

0

तो मृत्यु जैसा अनुभव होता है

तो मृत्यु जैसा अनुभव होता है


मृत्यु को बहुत करीब से महसूस करने वाले लोगों के अनुभव सुनकर विज्ञान फिलहाल इस नतीजे पर पहुंचा है कि आत्मा या जीवन का केंद्र मस्तिष्क के उस स्थान पर है रहता है जहां योग की भाषा में सहस्रार चक्र है।

यह चक्र सिर में उस जगह बताया जाता है, जहां लोग चोटी या शिखा रखते हैं। इस अध्ययन के मुताबिक तंत्रिका प्रणाली से जब आत्मा का आभास कराने वाला क्वांटम पदार्थ कम होने लगता है तो मृत्यु जैसा अनुभव होता है।

दूसरे जन्म के लिए ब्रह्मांड में लीन  हो जाती है

दूसरे जन्म के लिए ब्रह्मांड में लीन हो जाती है

शास्त्रीय मान्यता के अऩुसार भी आत्मा मूलतः मस्तिष्क में निवास करती है। मृत्यु के बाद यहां से निकलकर दूसरे जन्म के लिए ब्रह्मांड में लीन हो जाती है, जैसे भीड़ में खो गई हो।

एरिजोना विश्वविद्यालय में एनेस्थिसियोलॉजी और मनोविज्ञान विभाग के प्रोफेसर एमरेटस और वहीं रिसर्च विभाग निदेशक डॉ. स्टुवर्ट हेमेराफ के मुताबिक आत्मा के केंद्र का यह निष्कर्ष उस क्वांटम सिद्धांत की भी पुष्टि करता है, जो ब्रिटिश मनोविज्ञानी सर रोजर पेनरोस ने निरूपित किया है।

कोशिकाओं के अंदर बने ढांचों में आत्मा

कोशिकाओं के अंदर बने ढांचों में आत्मा

माना जाता है कि मस्तिष्क में क्वांटम कंप्यूटर के लिए चेतना एक प्रोग्राम की तरह काम करती है। यह ब्रह्मांड में परिव्याप्त रहती है। इस सिद्धांत के अनुसार हमारी आत्मा का मूल स्थान मस्तिष्क की कोशिकाओं के अंदर बने ढांचों में होता है जिसे 'माइथाट्युब्स' कहते हैं।

दोनों वैज्ञानिकों ने तर्क दिया कि 'माइथाट्युब्स' पर पड़ने वाले क्वांटम गुरुत्वाकर्षण के कारण हमें चेतना का अनुभव होता है। इस सिद्धांत को आर्वेक्स्ट्रेड ऑब्जेक्टिव रिडक्शन (आर्च-ओर) का नाम दिया है।
काल के जन्म से ही व्याप्त थी आत्मा

काल के जन्म से ही व्याप्त थी आत्मा

इस सिद्धांत के अनुसार हमारी आत्मा मस्तिष्क में न्यूरॉन के बीच होने वाले संबंध से कहीं व्यापक है। दरअसल, इसका निर्माण उन्हीं तंतुओं से हुआ जिससे ब्रह्मांड बना था। यह आत्मा काल के जन्म से ही व्याप्त थी।

भारत में सदियों से पारंपरिक रूप से यह माना जाता रहा है कि आत्मा का अस्तित्व होता है और श्राद्ध पक्ष में उनका आह्वान भी किया जाता है। sabhar : http://www.amarujala.com/

Read more

गुरुवार, 10 अप्रैल 2014

यूरी गगारिन ने कहा था : 'उड़नतश्तरियाँ सचमुच होती हैं'

0

यूरी गगारिन ने कहा था : 'उड़नतश्तरियाँ सचमुच होती हैं'

12  अप्रैल 1961 को सोवियत संघ के नागरिक, सोवियत वायुसेना में मेजर यूरी गगारिन ने मानव इतिहास में

12  अप्रैल 1961 को सोवियत संघ के नागरिक, सोवियत वायुसेना में मेजर यूरी गगारिन ने मानव इतिहास में पहली बार 'वस्तोक-1' नामक अन्तरिक्ष यान में सवार होकर पृथ्वी की निकटतम परिधि  पर अंतरिक्ष की यात्रा की थी।
आज ऐसा लगता है मानो हम यूरी गगारिन की उस पहली उड़ान के बारे में सब कुछ जानते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। एक विषय ऐसा है, जिसकी औपचारिक सूचना साधनों ने अक्सर उपेक्षा की है। यह विषय है —  उड़नतश्तरियाँ। जबकि यूरी गगारिन ने अपने संस्मरणों में लिखा है — 'उड़नतश्तरियाँ  एक वास्तविकता हैं। अगर आप मुझे इज़ाजत देंगे तो मैं उनके बारे में और भी बहुत-कुछ बता सकता हूँ।'
यह वाक्य सचमुच आश्चर्यजनक है क्योंकि तब, आज से चालीस-पचास साल पहले, सोवियत संघ में उड़नतश्तरियों के बारे में अंतरिक्ष यात्रियों और पत्रकारों को कुछ भी कहने या बताने की छूट नहीं थी। लेकिन इसके बावजूद उड़नतश्तरियों के साथ विभिन्न अंतरिक्ष-यात्रियों की मुलाक़ातों के बारे में बहुत-सी सामग्री इकट्ठी हो गई है। इनमें से कुछ बातें अब हम आपको बताते हैं।
गेरमन तितोव गगारिन के बाद अंतरिक्ष में जाने वाले दूसरे व्यक्ति थे। उन्होंने बताया कि 1961 में अपनी अन्तरिक्ष उड़ान के दौरान उन्होंने 7 उड़नतश्तरियाँ देखी थीं, जो उनके अन्तरिक्ष-यान के आसपास 'नाच' रही थीं।
26  फ़रवरी 1962  के दिन  'मरकरी फ़्रेंडशिप-7'  नामक अंतरिक्ष यान में उड़ान भर रहे  अमरीकी अंतरिक्ष-यात्री जॉन ग्लेनी ने  सिगार की शक़्ल की तरह की कोई अपरिचित चीज़ अंतरिक्ष में देखकर उसकी तस्वीरें ली थीं। सिगारनुमा इस यान के क़रीब एक भारी प्रकाशपुँज चमक रहा था। यह तस्वीर पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है।
12  अक्तूबर 1964  को 'वस्ख़ोद' नामक अंतरिक्ष-यान में पहली बार एक साथ तीन अंतरिक्ष-यात्री सवार होकर अंतरिक्ष में गए थे। कमारव, फ़िआक्तीस्तव और येगोरव नाम के इन तीनों अंतरिक्ष-यात्रियों ने पृथ्वी पर बने उड़ान संचालन केन्द्र को यह सूचना दी कि उनके यान को भयानक तेज़ी से उड़ रहीं डिस्क की शक़्ल की चीज़ों ने घेर लिया है। 5 दिवसीय इस उड़ान को यह सूचना मिलने के तुरन्त बाद बीच में ही  स्थगित कर दिया गया।
1968   में अमरीकी अंतरिक्ष-यात्रियों बोरमन, लॉवेल और एंड्रे जब 'अपोलो-8'  नामक अंतरिक्ष-यान में सवार होकर अंतरिक्ष में पहुँचे तो उन्होंने डिस्क की तरह गोल कुछ चीज़ों को देखा, जो ग्यारह हज़ार किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ़्तार से उड़ रही थीं। इन उड़नतश्तरियों के वहाँ पहुँचते ही 'अपोलो-8'  के सभी यंत्र-उपकरणों ने काम करना बंद कर दिया  तथा अमरीकी नगर ह्यूस्टन में बने उड़ान-संचालन केन्द्र से 'अपोलो-8'  का सम्बन्ध  टूट गया। इसके बाद इन रहस्यमयी चीज़ों ने 'अपोलो' को तेज़ रोशनी में नहला दिया और अपोलो  ऐसे  झूलने लगा, मानो कोई उसे झूले में झुला रहा  हो। इसके बाद एक बड़ी भयानक आवाज़ गूँजनी शुरू हो गई। इस आवाज़ से तीनों अंतरिक्ष-यात्रियों के कान के पर्दे जैसे फटने लगे और उनके कानों में  भयानक दर्द होना शुरू हो गया। कुछ पलों तक यही स्थिति रही। लेकिन कुछ ही मिनट बाद  अचानक ये  उड़नतश्तरियाँ कहीं ग़ायब हो गईं और वह भयानक आवाज़ तथा तेज़ रोशनी भी बंद हो गई। लेकिन  कुछ ही देर बाद 'अपोलो-8'  के पास डिस्क की तरह की ही एक और उड़नतश्तरी उभर आई जो  पहले वाली उड़नतश्तरियों से बहुत ज़्यादा बड़ी थी। अमरीकी अंतरिक्ष-यात्रियों के सारे शरीर में भयानक दर्द होने लगा। परन्तु 11 मिनट बाद यह उड़नतश्तरी भी ग़ायब हो गई और सब-कुछ पहले जैसा ही सामान्य हो गया। ह्यूस्टन के साथ सम्पर्क-लाइन भी तुरन्त ही काम करने लगी।
21  अप्रैल 1969  के दिन 'अपोलो-11'  नामक अंतरिक्ष-यान चाँद पर उतरा। यान से बाहर आकर अंतरिक्ष-यात्रियों आर्मस्ट्राँग और ओल्डरिन ने अपने सिर के ऊपर दो  उड़नतश्तरियों को देखा। उन्हें कुछ दूरी पर कुछ और उड़नतश्तरियाँ चन्द्रमा की सतह पर खड़ी दिखाई दीं। नासा अंतरिक्ष संगठन के भूतपूर्व सहकर्मी ओट्टो बिन्देर ने बताया कि   रेडियो-प्रेमियों ने 'अपोलो-11'   से आने वाले इस तरह के संदेश को  रिकार्ड किया था, जिसमें अंतरिक्ष-यात्री  कह रहे थे  — "हे भगवान!  ...आपको शायद ही इस बात पर विश्वास होगा कि यहाँ कुछ दूसरे यान भी दिखाई दे रहे हैं... जो कुछ ही दूर खड़े हुए हैं... क्रेटर के उस दूर वाले किनारे पर। वे हमें देख रहे हैं !"
अप्रैल 1975   में पृथ्वी से 195  किलोमीटर की ऊँचाई पर वाहक-रॉकेट के दुर्घटनाग्रस्त होने से अन्तरिक्ष-यान 'सोयूज-18'  का यात्री-कैपसूल उससे अलग हो गया। यह यात्री-कैपसूल पैराशूट के सहारे लाज़रेव और मकारव नाम के अंतरिक्ष-यात्रियों के साथ साईबेरिया के अल्ताई नामक पहाड़ी इलाके में सुरक्षित उतर आया। रात को इन अंतरिक्ष-यात्रियों के शिविर पर अचानक बैंगनी रंग की तेज़ रोशनी फैल गई। बाद में अचानक वह रोशनी ग़ायब हो गई। फिर वर्ष 1996 में लाज़रेव ने   बताया कि उनका यह मानना है कि इस  बैंगनी रोशनी फेंकने वाली चीज़ की वज़ह से ही वे दोनों अंतरिक्ष-यात्री एकदम पूरी तरह से सुरक्षित पृथ्वी पर लौट आए थे।
1978   में जब अंतरिक्ष-यात्री पपोविच एक यात्री-विमान में सवार होकर वाशिंगटन से मास्को लौट रहे थे तो  धरती से 10  हज़ार मीटर की ऊँचाई पर अपने विमान से क़रीब 1500  मीटर की दूरी पर उन्होंने आकाश में एक तिकोनी चीज़ को देखा, जो किसी नौका के पाल या बादबान की तरह लग रही थी।
5  मई 1981  को 'सल्यूत-6'  नामक अंतरिक्ष स्टेशन के कमांडर कवालेनक ने स्टेशन की खिड़की के बाहर एक अपरिचित बड़ी-सी गोल चीज़ को देखा, जो बाद में दो  घेरों में विभाजित हो गई। ये घेरे एक  कॉरीडोर जैसी चीज़ से जुड़े हुए थे।
1985  में  'सल्यूत-7'  नामक अंतरिक्ष-स्टेशन की उड़ान के 155 वे दिन अंतरिक्ष-स्टेशन पर उपस्थित  छह अंतरिक्ष-यात्रियों — कीज़िम, अत्कोफ़, सलाव्योव, सवीत्सकया, वोल्क और जानिबेकव ने स्टेशन की खिड़की के बाहर खुले अंतरिक्ष में सात बड़े-बड़े जीव देखे।  इन जीवों की बहुत कम चर्चा करते हुए उन्होंने इन्हें  'अंतरिक्षीय देवदूत'  कहा है। इन जीवों  की शक़्लें एक-दूसरे से अलग-अलग थीं।  लेकिन ये सभी जीव  ख़ुशी से मुस्करा रहे थे। क़रीब दस मिनट तक अंतरिक्ष-स्टेशन के पास बने रहकर ये  'देवदूत' अचानक ग़ायब हो गए। वर्ष 2007 में टेलिस्कोप 'हेब्ब्ल' ने भी पृथ्वी की परिधि पर सात चमकती हुई चीज़ों को नोट किया और उनकी तस्वीरें लीं। इन तस्वीरों में इन चीज़ों का आकार पंखों वाले किसी जीव की तरह था। 
1990  में अंतरिक्ष-स्टेशन 'मीर' में कार्यरत अंतरिक्ष-यात्रियों स्त्रेलकोव और मनाकव ने अपनी खिड़की के बाहर कुछ सैकंड तक एक गोल घेरे को चमकते हुए देखा जो किसी जलते हुए लट्टू की तरह लग रहा था।
1991  में अंतरिक्ष-यात्री मूसा मनारव ने अंतरिक्ष-स्टेशन 'मीर'  के बाहर एक अजीब-सी चीज़ देखी।  शुरू में उन्होंने सोचा कि यह एंटेना है, लेकिन कुछ ही देर में  वह एंटेनानुमा चीज़ अंतरिक्ष स्टेशन से बड़ी तेज़ी से दूर होती चली गई।
औपचारिक तौर पर रूस और अमरीका के अंतरिक्ष संगठन या तो इस तरह की सूचनाओं पर कोई टिप्पणी नहीं करते, या फिर इन्हें पत्रकारों की कपोल-कल्पना बताते हैं। लेकिन   उड़नतश्तरियों को देखे जाने की जो सूचनाएँ लगातार मिलती रहती हैं, वे यह सोचने को  बाध्य करती हैं कि धुआँ बिना आग के तो पैदा नहीं होता sabhar :http://hindi.ruvr.ru/
और पढ़ें: http://hindi.ruvr.ru/2012_04_11/71375385/

Read more

शनि के चांद पर पानी होने की संभावना

0

शनि चंद्रमा

सौरमंडल के दूसरे सबसे बड़े ग्रह शनि के एक चंद्रमा इन्सेलादस की सतह के नीचे पानी का 'सागर' होने के पर्याप्त सबूत मिले है. इस नए खोज ने ब्रह्मांड में पृथ्वी के बाहर जीवन होने की संभावना को बढ़ा दिया है
जब से अंतरिक्ष में जेट विमानों ने इसके दक्षिणी ध्रुव से बर्फीली चीज़ों को टूट कर गिरते देखा है तब से वैज्ञानिक उत्साहित है.

साइंस पत्रिका ने इसकी विस्तृत रिपोर्ट छापी है.नासा के अंतरिक्ष यान कासिनी की मदद से शोधकर्ता पानी के अत्यंत सूक्षम गुरुत्वाकर्षण संकेत का भी पता लगाएंगें.
प्रोफ़ेसर लुसियानो लेस ने बीबीसी न्यूज़ से कहा, "हमने जो मापा है उसके हिसाब से यह उत्तरी अमेरिका के सुपीरियर झील के आकार के एक बड़े जलाशय के अस्तित्व में होने की संभावना है. "
यह इटली के गार्डा झील से 245 गुना बड़ा हो सकता है.

अनुकूल परिस्थितियाँ

इन्सेलादस
कासिनी से मिले आकड़ों के मुताबिक़ इन्सेलादस के बर्फिले सतह के 40 किमी नीचे तरल पदार्थ है.
प्रोफ़ेसर लेस और उनकी टीम के निष्कर्षों के मुताबिक़ 500 किमी चौड़ा यह चंद्रमा सूक्षमजीवों के जीवन के अस्तित्व के लिहाज़ से पृथ्वी के बाद सबसे उपयुक्त जगह होगी.
कासिनी से मिले आकड़ों के मुताबिक़ इन्सेलादस के बर्फ़ीले सतह के 40 किमी नीचे तरल पदार्थ है.
कासिनी ने सबसे पहले 2005 में इस चंद्रमा पर फैले हुए वातावरण का पता लगाया था तब से वहाँ पानी के सागर होने की संभावना को बल मिला है.
कासिनी जब पहली बार शनि ग्रह में पहुँचा था तो वहां पर अंधेरा था. उस वक्त शनि में सर्दी का मौसम चल रहा था.
इसके वातावरण में खनिज और जल वाष्प होने के संकेत मिले है.
"मैं सोचता हूँ जीवन मौजूद होने की संभावनाओं वाली सूची में इन्सेलादस का नाम सबसे ऊपर है."
प्रोफेसर एंड्रयू कोट्स, ब्रिटेन कासिनी वैज्ञानिक
कासिनी लवण और कार्बन युक्त जैविक अणुओं का पता भी लगा रहा है.
इन्सेलादस के चारों ओर की कक्षा विकेन्द्रीत है. यह गोलाकार नहीं है. इसलिए इस विशाल ग्रह के द्वारा इन्सेलादस के बर्फ को गर्म कर के और पिघला के गुरुत्वाकर्षण को कम और ज़्यादा करने की संभावना रहती है.
सौर मंडल में कई कैसे चंद्रमाएँ है जिस पर जीवन होने की मजबूत संभावनाएँ है. शनि का सबसे बड़ा उपग्रह टाइटन , बृहस्पति के चन्द्रमाओं यूरोपा, गेनीमेड और कैलिस्टो और नेपच्यून के ट्राइटन इस श्रेणी में आते हैं.
चट्टान में पानी की मौजूदगी होने की वज़ह से इनमें से इन्सेलादस और यूरोपा पर जीवन होने की अधिक संभावना है.

क्योंकि इससे रसायनिक प्रक्रियाओं की संभावना बढ़ जाती है जो जीवन उत्पन्न होने के लिए अनुकूल परिस्थितियाँ तैयार करती है.sabhar :http://www.bbc.co.uk/

Read more

गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक

0

गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन

रायपुर.  मशरूम की खेती के लिए 69 साल की नानी को सवा लाख रुपए का उपकरण चाहिए था। घर की माली हालत खराब थी। 
 
एनआईटी पास मैकेनिकल इंजीनियर धीरज साहू ने जब नानी (अगास बाई) की परेशानी देखी तो महंगे उपकरण की सस्ती तकनीक वाला वर्जन बनाने की जिद ठान ली। जज्बा काम आया। कुछ दिनों की मेहनत से वैसा ही उपकरण ‘इनाकुलेशन चैंबर’ मात्र 1200 रुपए में तैयार हो गया। इसकी मदद से नानी ने मशरूम उत्पादन शुरू किया। अब आर्थिक स्थिति सुधरने लगी है।
 
सपना साकार हुआ 
 
धीरज के माता-पिता नानी के साथ कांकेर जिले के सिंगारभाट में रहते हैं। नानी ने मशरूम उगाने का प्रशिक्षण कृषि विज्ञान केंद्र से लिया। अगास बाई चाहती थीं कि मशरूम बीज उत्पादन से जुड़ें, लेकिन महंगी मशीन रोड़ा बन रही थी। जब नाती ने इनाकुलेशन चैंबर बना दिया तो सपना हकीकत बन गया।
 
दो महीने में 17 हजार कमाए  
 
मशरूम बीज उत्पादन में तीन हजार रुपए खर्च निकालने के बाद भी दो महीने में 17 हजार रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ है। अब तो दामाद यानी धीरज के पिता घनश्याम साहू भी सिलाई का काम छोड़कर मशरूम बीज तैयार करने में जुट गए हैं।
 
गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन
ऐसे बनाई मशीन
 
धीरज के अनुसार बीज उत्पादन में लेमिनर फ्लो नामक उपकरण की जरूरत पड़ती है। यह बैक्टीरिया और फंगस खत्म करता है। उसने इस मशीन के काम करने के तरीके की जानकारी जुटाई। कांकेर के कृषि केंद्र में रखे इसी तरह के एक मॉडल का अध्ययन किया। इसके बाद अपनी तकनीक इजाद की और बीज बनाने की नई मशीन तैयार हो गई।
 
विवि प्रमोट करेगा
 
यह अच्छा इनोवेशन है। विशेषज्ञों से छोटी-मोटी खामियां दूर करवाकर इस तकनीक को प्रमोट करेंगे। इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च (आईसीएआर) को भी सक्सेस स्टोरी भेजेंगे। उम्मीद है, यह तकनीक किसानों के लिए मददगार साबित होगी।
 
डॉ. एसके पाटिल, कुलपति, इंदिरा गांधी कृषि विवि, रायपुर 
 
फोटो- धीरज साहू की नानी (अगास बाई)

मां का दर्द सह न सका, खोज निकाली दवा
 
जमशेदपुर.  समस्या, पीड़ा, दर्द हो तो आमतौर पर लोग घबरा जाते हैं। जो इसका डट कर सामना करते हैं, वो कुछ ऐसा कर जाते हैं, जिससे समाज का भला होता है। देश-दुनिया को फायदा पहुंचता है।
 
डॉ अरविंद सिन्हा ऐसे इंसान हैं, जिनसे मां का दर्द सहा नहीं गया और ऐसी दवा खोज निकाली, जिससे आज लाखों लोगों का दुख दूर हो रहा है। डॉ सिन्हा नेशनल मेटलर्जिकल लेबोरेट्री (एनएमएल), जमशेदपुर में सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट हैं। उन्होंने ऐसा स्प्रे ईजाद किया है, जिससे टूटी हुई हड्डियों को जोड़ने में स्टील प्लेट की जरूरत नहीं होती। बल्कि, स्प्रे करने मात्र से हड्डियां जुड़ जाती हैं। 
गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन

40,000 रुपए में बना ली फोर व्हीलर गाड़ी
 
रतलाम. नौगांवा जागीर के किसान अनिल गिरी गोस्वामी ने टू-व्हीलर के रेट में फोर व्हीलर बना दी। यह नैनो कार से भी छोटी है। 
 
इनसे बना वाहन
 
राजदूत के चार पहिए, चेसिस, चार शॉकअप, पानी खींचने के काम में इस्तेमाल होने वाला 5.5 हॉर्स पावर का इंजन,मारुति वैन की स्टेयरिंग और सीट से बनी है यह फोर व्हीलर गाड़ी। 

गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन

ट्रैक्टर का काम करता है बुलेट
 
भारत में बुलेट को शान की सवारी के रूप में जाना जाता है। रास्ता कितना भी मुश्किल क्यों न हो यह अपनी ताकत से मुसाफिर को मंजिल तक पहुंचाता है। गुजरात के मनसुख भाई जागनी ने बुलेट को एक अलग ही रूप दे दिया है। मनसुख भाई ने देशी जुगाड़ से बुलेट को ट्रैक्टर बना दिया। यह बुलेट ट्रैक्टर 30 मिनट में एक एकड़ जमीन की जुताई कर सकता है और इस काम में सिर्फ दो लीटर इंधन की खपत होती है।

गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन
पैडल से चलती है यह वॉशिंग मशीन
 
केरल की रेम्या जोसे का जन्म गरीब परिवार में हुआ। मां के बीमार होने पर घर से सारे कपड़े रेम्या को धोने पड़े और उसके पास वॉशिंग मशीन नहीं था। रेम्या ने इस समस्या के हल के लिए पैडल से चलने वाला वॉशिंग मशीन बना लिया। इस मशिन पर बैठकर पैडल मारने पर बॉक्स में रखे गए कपड़े धुलते हैं। 
गरीबी ने बना दिया वैज्ञानिक, सिर्फ 1200 में बनाई 1.25 लाख रुपए की मशीन

हवा से निकलता है पानी
 
असम के मेहतर हुसैन और मुशताक अहमद ने बांस की मदद से पवन चक्की बनाया है। इसकी मदद से जमीन के अंदर से पानी निकाला जा रहा है। गुजरात के नमक के मजदूरों के लिए यह खोज बहुत उपयोगी है। वे इसकी सहायता से पानी हटाते हैं और डीजल की तुलना में कम पैसे में उनका काम हो जाता है। sabhar ;http://www.bhaskar.com/






Read more

बुधवार, 9 अप्रैल 2014

खुशखबरी: वैज्ञानिकों ने ढूंढा एड्स का इलाज

0

लंदन।। वैज्ञानिकों की एक इंटरनैशनल टीम ने एड्स का इलाज खोजने का दावा किया है। इस टीम ने एक ऐसा जिनेटिक तरीका खोजा है जिसके इस्तेमाल से शरीर खुद ब खुद एचआईवी वायरस से मुक्ति पा लेगा। इस टीम को ऑस्ट्रेलिया और कनाडा की सरकारों का समर्थन है। 

वैज्ञानिकों ने चूहों पर ये एक्सपेरिमेंट किए थे। इसके तहत वे चूहों के इम्यून सिस्टम या प्रतिरोधक क्षमता को इस हद तक बढ़ाने में कामयाब हुए कि सिस्टम ने वायरस को नाकाम कर दिया और उसे शरीर से निकाल फेंका। इस प्रयोग के केंद्र में SOCS-3 नाम का जीन था। जब शरीर में एचआईवी जैसा गंभीर इन्फेक्शन होता है तो यह जीन बहुत ज्यादा सक्रिय हो जाता है और आश्चर्यजनक तौर पर खुद इम्यून सिस्टम को बंद कर देता है। इस वजह से वायरस बिना रोकटोक फलता फूलता है। 

जब वैज्ञानिकों ने आईएल-7 नाम के एक हॉर्मोन का लेवल बढ़ाया तो SOCS-3 जीन ने काम करना बंद कर दिया और चूहे ने धीरे-धीरे एचआईवी वायरस को शरीर से बाहर कर दिया। गौरतलब है कि एड्स वायरस की सबसे बड़ी खूबी है कि यह हमारे इम्यून सिस्टम को नाकाम कर देता है। चूहे पर हुए ताजा प्रयोग के बाद वैज्ञानिकों के दिल में नए किस्म के इलाज की उम्मीद जगी है। उन्हें भरोसा है कि इस तरह से न केवल एचआईवी बल्कि हेपटाइटिस बी, सी और टीबी जैसे गंभीर इन्फेक्शन का भी इलाज हो सकेगा। 
टीम लीडर डॉ. मार्क पैलेग्रिनी का कहना है एचआईवी और हेपटाइटिस बी, सी के वायरस हमारे इम्यून सिस्टम को इतना थका देते हैं कि वह बजाय उनसे लड़ने के हथियार डाल देता है। 

हमारी अप्रोच यह थी कि किसी तरह इम्यून सिस्टम को थकाने वाले कारक की पहचान करके उससे जुड़े जीन में ऐसी फेरबदल की जाए कि प्रतिरोधक क्षमता फिर से काम करने लगे और इन्फेक्शन का मुकाबला करे। अब ऐसी दवाएं डिवेलप की जाएंगी जो SOCS-3 जैसे जीन्स पर कारगर हों और उनके काम करने के तरीके को बदल सके। sabhar :http://navbharattimes.indiatimes.com/

Read more

सेक्स की इच्छा होने पर पारदर्शी हो जाएगी ड्रेस

0

dress

नई टेक्नॉलजी का यह अद्भुत नमूना है। अब बात स्मार्ट वॉच से आगे बढ़ गई है। एक ऐसी ड्रेस आ गई है जो यह समझ जाएगी कि आपकी सेक्स की इच्छा हो रही है और अपने आप पारदर्शी हो जाएगी। इस ड्रेस को बनाया है स्टूडियो रूसेगार्दे ने। चीन और नीदरलैंड्स की यह कंपनी फैशन, आर्ट और आर्किटेक्चर के क्षेत्र में काम करती है। इस ड्रेस को इंटिमसी 2.0 नाम के एक फैशन प्रॉजेक्ट के तहत तैयार किया गया है। इस प्रॉजेक्ट में अंतरंगता और तकनीक के बीच संबंध पर काम किया जा रहा है।

पारदर्शी होने वाली इस ड्रेस के फिलहाल दो मॉडल उतारे गए हैं, इंटिमेसी वाइट और इंटिमेसी ब्लैक। इसे ऐसे मटिरियल से बनाया गया है जो कुछ खास परिस्थितियों में पारदर्शी हो जाता है। इंटिमेसी 2.0 धड़कनों के बढ़ने के हिसाब से पारदर्शी होती जाती है। मटिरियल में इलेक्ट्रॉनिक वायरिंग होती है और एलईडी लगे होते हैं। जब पहनने वाला व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति के करीब जाता है और उसकी धड़कनें बढ़ती हैं तो पारदर्शिता बढ़नी शुरू हो जाती है।

कंपनी की वेबसाइट पर लिखा है ये गाउन किसी समारोह में जाने के लिए सबसे उपयुक्त हैं। और तो और, इसके अडवांस वर्जन पर भी काम शुरू हो गया है। sabhar :http://navbharattimes.indiatimes.com/

Read more

सोचने भर से उड़ा लिया हेलिकॉप्टर

0


photo : google
लंदन।। वैज्ञानिकों ने एक्सपेरिमेंट के दौरान रिमोट से कंट्रोल हो सकने वाले एक हेलिकॉप्टर को 'मन की शक्ति' से उड़ाने में कामयाबी पाई है। सुनने में थोड़ा अजीब लगे, लेकिन यह सही है। ऐसा करने के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ मिन्नेसोटा के इंस्टिट्यूट ऑफ इंजिनियरिंग इन मेडिसिन में एक स्पेशल 'टोपी' की मदद से बेन के इलेक्ट्रिकल ऐक्टिविटीज को कैप्चर किया गया।

कैसे हुआ एक्सपेरीमेंट? 5 यूजर्स को 64 इलेक्ट्रोड लगी स्पेशल टोपी पहनाई गई। टोपियों को कंप्यूटर से जोड़ा गया और मूवमेंट से जुड़े विचारों के पैटर्न को समझने की कोशिश की गई। दाएं-बाएं मुड़ने, ऊपर जाने या नीचे गिरने की सोचते वक्त ब्रेन में क्या इलेक्ट्रिकल मूवमेंट होते हैं, इसे कंप्यूटर में रेकॉर्ड किया गया। इसके बाद कंप्यूटर से वाईफाई के जरिए हेलिकॉप्टर को उड़ाने की कोशिश शुरू की गई। हेलिकॉप्टर को कंट्रोल करने के लिए केवल यूजर्स के विचारों के इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंपलसेज का इस्तेमाल किया गया। बीबीसी न्यूज के मुताबिक, यूजर के बाएं हाथ से मुक्का मारने के बारे में सोचते ही हेलिकॉप्टर भी उसी तरह मूवमेंट करने लगा।

बेहद कामयाब रहा एक्सपेरिमेंट यूनिवर्सिटी कैंपस में जिस जगह यह टेस्ट किया गया, वहां दीवार और दूसरी किस्म की बाधाएं थीं, लेकिन हेलिकॉप्टर अपने उड़ान के दौरान काफी हद तक इनसे टकराने से बचने में कामयाब रहा।
विकलांगों को होगा फायदा इस एक्सपेरिमेंट से जुड़ी टीम का मानना है कि अगर इस खोज को और बेहतर किया गया तो आने वाले वक्त में यह उन मरीजों के लिए वरदान साबित हो सकता है, जो चल-फिर नहीं सकते। साइंटिस्ट आने वाले वक्त में इसके जरिए वीलचेयर कंट्रोल करने से लेकर टीवी तक ऑपरेट करना चाहते हैं। इसके अलावा, कृत्रिम अंगों को भी ऑपरेट करने की योजना है।
 sabhar :http://navbharattimes.indiatimes.com/

Read more

मंगल ग्रह पर जीवन ढूंढ़ने गए क्यूरियोसिटी के कैमरे में कैद हुई रहस्यमयी रोशनी

0


ब्रह्मांड के रहस्यों से पर्दा उठाने की कोशिशें, एक नई रोशनी मिलने से एक बार फिर चमक उठी हैं. मंगल पर तैनात नासा के रोवर क्यूरियोसिटी में लगे दो कैमरों ने मंगल की सतह से उठती रहस्यमयी रोशनी की तस्वीरें ली हैं. हालांकि नासा ने अभी तक इन तस्वीरों के बारे में कुछ कहा नहीं है. लेकिन कई सारी अटकलें लगनी शुरू हो गई हैं.
'यूएफओ साइटिंग्स डेली' नाम से वेबसाइट चलाने वाले स्कॉट सी वेरिंग ने 6 अप्रैल को ये तस्वीरें पोस्ट की थी. इन तस्वीरों में रोशनी सतह से ऊपर की ओर उठती हुई दिख रही है, जो नीचे से फैली हुई है. वेरिंग का कहना है कि यह इस बात का संकेत है कि वहां इंटेलिजेंट लाइफ मौजूद है जो हमारी तरह ही लाइट का इस्तेमाल करती है. वेरिंग ने अपनी वेबसाइट पर लिखा, 'यह सूर्य की रोशनी नहीं है, ना ही तस्वीर खींचने की कोई कारीगरी'

इस बीच क्यूरियोसिटी रोवर अपने लक्ष्य स्थान 'द किम्बरले' पहुंच गया है. क्यूरियोसिटी यहां चट्टानों के नमूनों की जांच करेगा ताकि मंगल ग्रह के बरसों पुराने वातावरण के बारे में जानकारी जुटाई जा सके. इस जांच का मकसद यह पता लगाना है कि लाल ग्रह पर कभी जीवन था या नहीं?

मंगल ग्रह पर द किम्बरले, वह जगह है जहां चार तरह की चट्टानें एक दूसरे से मिलती है. इसका नामकरण पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया के एक क्षेत्र के नाम पर किया गया है.

कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इन पसादेना की मेलिसा राइस ने एक बयान में कहा कि हमारा पूरा प्रयास किंबरले पहुंचने का था, चट्टानों की जांच से महत्वपूर्ण जानकारियां मिलने की उम्मीद है.

राइस, किंबरले क्षेत्र की चट्टानों की जांच, सैंपल ड्रिलिंग और लैबोरेटरी विश्लेषण की हफ्तों चलने वाली योजनाओं की जिम्मेदारी संभालती हैं. गौरतलब है कि क्यूरियोसिटी अगस्त 2012 में मंगल ग्रह के क्रेटर में उतरा था. इसके बाद किंबरले पहुंचने के लिए उसे 3.8 मील की दूरी तय करनी पड़ी.sabhar :http://aajtak.intoday.in/















Read more

मंगलवार, 8 अप्रैल 2014

खुलासा! टीवी शो में फिक्स होती हैं दर्शकों की तालियां और हंसी

0



मुंबई। घर पर बैठकर टीवी पर शोज देखते समय आपको जरूर ऐसा लगता होगा कि काश हम भी टीवी पर दिखाई दें, भले ही दर्शक के तौर पर। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जो दर्शक शो में हंसते हैं, तालियां बजाते हैं और सवाल पूछते हैं, उनमें से बहुत सारे पैसे देकर शो में बुलाए जाते हैं। चौंकिए मत! ये सच है। उन्हें ये सब करने के लिए पैसे दिए जाते हैं। वे पेड ऑडियंस के तौर पर काम करते हैं।
जी हां हमारे सहयोगी अखबार मिड डे की खबर के मुताबिक ये दर्शक पेड होते हैं। इन्हें पैसों के साथ-साथ 12 घंटे की शिफ्ट के हिसाब से खाना-पीना भी दिया जाता है। टीवी शो में शामिल होने वाला एक दर्शक औसतन 12 घंटे के 1500 रुपए से ज्यादा नहीं कमा पाता। ऐसा नहीं है कि कोई भी दर्शक के तौर पर शो में शामिल होकर कमाई कर सकता है। दर्शकों को उनके लुक और पर्सनेलिटी के हिसाब से उन्हें काम मिलता है।
कास्टिंग एजेंट के तौर पर पिछले 25 साल से इस इंडस्ट्री में काम कर रहे पप्पू लेखराज बताते हैं, 'इंडस्ट्री में काम करने के लिए ये एक अच्छा ऑपशन है। इसे करियर की तरह लिया जाता है। अधिकतर रियलिटी शोज को दर्शकों की जरूरत होती है। कुछ लोगों को डेली बेसिस पर पैसे मिलते हैं। 12 घंटे की शिफ्ट में इन्हें खाना-पीना भी दिया जाता है।
प्रतिज्ञा और खामोशियां जैसे शोज के प्रोडक्शन हेड कहते हैं, 'रियलिटी शोज और बाकी फिक्शन शोज के दर्शक अलग होते हैं। फिक्शन शोज में कई जूनियर आर्टिस्ट भी काम करते हैं। रियलिटी शोज 12 घंटे तक चलते हैं वहीं, फिक्शन शोज 8 घंटे तक चलते हैं। इस दौरान उन दर्शकों को खाना पीना भी दिया जाता है।
सलीम रज्जाक रियलिटी शोज में दर्शक के तौर पर जा रहे हैं। उन्होंने बताया, 'मैं एक साल से बतौर दर्शक काम कर रहा हूं, मुझे महीने में 6 हजार से 8 हजार रुपये मिल जाते हैं। ये एक अच्छा काम है। मैं बहुत प्रोफेश्नल हो गया हूं। मैं बहुत खुश हूं क्योंकि इस बहाने से मुझे अपने फेवरेट स्टार्स से मिलने का मौका मिलता है।'
एक और दर्शक अमित पटेल कहते हैं कि उनके पास कोई काम नहीं था, लेकिन जब उनके दोस्त ने उन्हें इस काम के बारे में बताया तो वे खुश हो गए। उन्होंने कहा, 'आज मैं 4 से 6 हजार कमा लेता हूं। मुझे ज्यादा कुछ नहीं करना होता है। बस भीड़ में बैठकर सभी आदेशों का पालन करना होता है।'sabhar :http://www.jagran.com/

Read more

सोमवार, 7 अप्रैल 2014

गंगनचुंबी इमारतें बनाएंगे रोबोट

0


वाशिंगटन। हारवर्ड में भारतीय मूल के वैज्ञानिक ने स्वेच्छा से काम करने वाले रोबोट की एक पूरी सेना तैयार कर ली है। ये रोबोट आपसी समायोजन से बिना किसी मानवीय निगरानी के गगनचुंबी इमारतों से लेकर पिरामिड तक बना सकते हैं।
अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि इन्हें ठोस ढांचों को खड़ा करने में सक्षम ये रोबोट सामूहिक बुद्धिमत्ता और समायोजन से कार्य करते हैं। इन्हें किसी निगरानी और दिशा-निर्देश देने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इस प्रणाली को किसी निगरानी और कैमरे से निगरानी की जरूरत नहीं पड़ती है। उनकी सहूलियत के लिए किसी खास किस्म के वातावरण बनाने की भी आवश्यकता नहीं पड़ती है। हारवर्ड यूनिवर्सिर्टी के वैानिकों ने ये टर्म्स प्रणाली बनाई है। इसके जरिए रोबोट जटिल और तीन आयामों वाले ढांचों को बिना किसी केंद्रीय कमान या निर्देशित नियमों के बाखूबी बना सकते हैं। टर्म्स प्रणाली की मदद से ऊंची इमारतें, महल, पिरामिड फोम ब्रिक से बनाए जा सकते हैं। इस प्रणाली के जरिए इमारत की सामग्री के जरिए खुद ब खुद ऐसी सीढि़यां बनाई जाती हैं। जिससे गुजरकर ये रोबोट ऊंचे स्थानों तक पहुंचते हैं और उस पर जरूरत के हिसाब से ईंटें जमाते जाते हैं। अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि भविष्य में ऐसे रोबोट बाढ़ आने पर पानी रोकने के लिए बालू की बोरियां लगाने से लेकर मंगल ग्रह पर निर्माण कार्य में भी बखूबी भाग ले सकते हैं।
इस प्रणाली की सबसे अच्छी बात ये है कि जटिल से जटिल कार्य को सामूहिक रूप से ये रोबोट बिना किसी देखरेख के अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में जहां इंसान की हदें खत्म होती हैं वहां भी इन रोबोट से बेहतरीन काम लिया जा सकता है। इन रोबोट को काम कराने के लिए माहौल या वातावरण को बदलने की भी जरूरत नहीं है। जैसे बाढ़ में बचाने वालों के भी जीवन का ख्याल रखना होता है। मंगल ग्रह पर इंसान को भेजने के लिए वहां के वातावरण के अनुकूल ही माहौल बनाना होगा। पर इन रोबोट के लिए ये सीमाएं नहीं हैं। इस प्रोजेक्ट की मुख्य जांचकर्ता हारवर्ड में इंजीनियरिंग और कंप्यूटर साइंस की प्रोफेसर राधिका नागपाल और फ्रेड कावली हैं। प्रत्येक रोबोट बिल्डिंग बनाने की इस प्रक्त्रिया में दूसरे रोबोट के समानान्तर काम करता है। लेकिन उसे ये नहीं पता होता कि उसी वक्त यही काम और कौन कर रहा है। ऐसे में अगर कोई एक रोबोट टूट गया या काम से हट गया तो इससे दूसरे रोबोट पर असर नहीं पड़ता और वह अपना काम करता रहता है। यानी इस प्रणाली के जरिए एक निर्देश पांच रोबोट या पांच हजार रोबोट को एक साथ दिया जा सकता है। टर्म्स प्रणाली मापने, वितरण प्रणाली और आर्टीफियल इंटेलिजेंस का बेजोड़ नमूना है। नागपाल के इस स्वनियंत्रित प्रणाली अनुसंधान को एलगारिथम के हिसाब से तैयार किया गया है। जिसमें रोबोट का एक समूह एक कालोनी की तरह काम करता है। सभी रोबोट एक समूह में एक इकाई की तरह उच्च स्तरीय काम करते हैं। sabhar :http://www.jagran.com/

Read more

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting