Loading...

मंगलवार, 6 मई 2014

तीन लोगों के डीएनए से होगा बच्चा

1



यह तकनीक अब तक बंदरों पर टेस्ट की गई थी, इससे मिले नतीजों के आधार पर इस हफ्ते अमेरिक में फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) यह तय करेगा कि इस तरह के परीक्षण मनुष्य पर किए जाने की छूट दी जानी चाहिए या नहीं. इस तकनीक से 'डिजाइनर बच्चे' के जन्म में मदद मिल सकती है. पैदा हुए बच्चे में मां से अनचाहे गुण या जेनेटिक बीमारियां न पहुंचें इसके लिए उन्हें बदला जा सकता है. हालांकि तकनीक के खिलाफ नैतिकता के आधार पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं.
विरोध के स्वर
आलोचकों का मानना है कि इस तकनीक के आ जाने से माता पिता बच्चे की आंख का रंग, कद या बुद्धिमत्ता भी तय करने की कोशिश कर सकते हैं. तकनीक का समर्थन कर रहे वैज्ञानिक इस बात पर जोर दे रहे हैं कि यह जीन मॉडिफिकेशन के बजाय जीन करेक्शन में काम आएगी.
डॉक्टर शूखरात मितालिपोव कहते हैं, "हम उन जीन्स को इस तकनीक से ठीक कर सकते हैं जो किसी कारण परिवर्तित हो गए और जो मानव शरीर के लिए हानिकारक हैं. हम उन्हें ठीक करने की कोशिश कर रहे हैं, मुझे समझ नहीं आता कि इसका विरोध क्यों होना चाहिए."
पोर्टलैंड की ऑरिगॉन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी में डॉक्टर मितालिपोव की रिसर्च ने इस मुद्दे पर सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने साथी रिसर्चरों के साथ मिलकर डीएनए रिप्लेसमेंट तकनीक के जरिए पांच बंदरों के जन्म में मदद की. अब वह यह परीक्षण कुछ ऐसी महिलाओं पर करना चाहते हैं जिनमें दोषपूर्ण जीन्स के कारण बच्चे के स्वास्थ्य को खतरा हो सकता है, जैसे दृष्टिहीनता या किसी अंग का निष्क्रिय होना.
कैसे काम करती है तकनीक
अमेरिका में हर साल पांच हजार में से एक बच्चा माइटोकॉन्ड्रिया में मौजूद दोषपूर्ण डीएनए के कारण इस तरह के रोगों के साथ पैदा होता है. माइटोकॉन्ड्रियल डीएनए बच्चे में मां से आता है, पिता से नहीं. इस तकनीक के जरिए मां के सेल के वे ही डीएनए बच्चे में डाले जाएंगे जो न्यूक्लियस में होंगे न कि माइटोकॉन्ड्रिया के डीएनए. माइटेकॉन्ड्रियल डीएनए डोनर मां के होंगे.
इसे अंजाम देने के लिए रिसर्चर एक स्वस्थ डोनर महिला के अंडाणु के न्यूक्लियस डीएनए निकालकर मां के न्यूक्लियस डीएनए से बदल देते हैं. प्रजनन पर भ्रूण में मां के न्यूक्लियस डीएनए जाएंगे जो आंखों का रंग और कद जैसी खूबियां निर्धारित करते हैं, लेकिन माइटोकॉन्ड्रियल डीएनए डोनर मां का होगा.
कई लोग इस बात की भी उम्मीद कर रहे हैं कि इसकी मदद से तीन लोगों के गुणों को मिलाकर बच्चे को पैदा किया जा सकेगा. लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि बात बढ़ा चढ़ा कर प्रस्तुत की जा रही है. उनका मकसद केवल स्वस्थ बच्चे के जन्म में मदद करना है जिसके दोष जन्म से पहले डोनर मां के माइटोकॉन्ड्रियल डीएनए के जरिए ठीक किए जा सकते हैं.
इस तकनीक से बच्चे के गुणों में हुए परिवर्तन आने वाली नस्लों में आगे बढ़ते जाएंगे. आलोचकों का सवाल यह भी है कि इससे अगर किसी तरह की स्वास्थ्य संबंधी तकलीफें आती हैं तो वे भी वंशानुगत होंगी. जर्मनी और फ्रांस समेत 40 से ज्यादा देशों में मानव जीन में वंशानुगत परिवर्तन करना प्रतिबंधित है.
एसएफ/एएम (एपी) sabhar :http://www.dw.de/

1 टिप्पणियाँ :

Irina Gubasova ने कहा…

नमस्ते हर कोई .... मैं मैं के बारे में कैसे प्रसारित करने के लिए शर्म नहीं हो सकता, मैं डॉ ओला वह मैं उसे करने के लिए निर्देशित किया है कि एचआईवी से पीड़ित कई लोगों की मदद की है कि कैसे मेरी मदद की और कैसे पर गवाही देने के लिए फिर से आया था यही वजह है कि बहुत खुश हूँ मैं स्वस्थ और स्वतंत्र हूँ, क्योंकि मैं अब एचआईवी रोग का सामना करना पड़ा मैं 3 साल के लिए सकारात्मक था, लेकिन अब मैं डॉ ओला हर्बल चिकित्सा की मदद से नकारात्मक एचआईवी हूँ। मेरे प्यारे दोस्तों, मैं डॉ ओला मुझे ठीक हो और फिर से मेरे परिवार को खुश कर दिया कहने के लिए खुश हूँ। उन्होंने कहा कि मैं आप किसी भी समस्या है, तो आप उससे संपर्क करने के लिए सलाह, किसी भी बीमारी या बीमारी का इलाज कर सकते हैं, आप ईमेल के माध्यम से उसे आज से संपर्क कर सकते हैं: dr.olaherbalhome@gmail.com या / WhatsApp +2348055329124 कहते हैं। मैं यह भी कहा कि वह हरपीज इलाज कर सकते हैं समझते हैं कि, लासा बुखार, सूजाक, एचआईवी / एड्स, शुक्राणुओं की संख्या कम, रजोनिवृत्ति रोग, मिर्गी, अपूतिता, कैंसर, चिंता अवसाद, गर्भपात, गर्भावस्था समस्या है और यह भी कि वह हमलों के टूटे घरों, हर्बल उपचार बहाल मदद करता है यह आध्यात्मिक या शारीरिक हो सकता है, और यह भी आप हर किसी के साथ अनुग्रह बना सकते हैं मैं तुम्हें मैं ईमेल के माध्यम से डॉ ओला से परामर्श के बाद अब हूँ बस के रूप में खुश हो जाएगा कि आपको विश्वास दिलाता हूं: (dr.olaherbalhome@gmail.com) / WhatsApp 2348055329124। तुम भी मेरे ईमेल के साथ और अधिक जानकारी के लिए मुझसे संपर्क कर सकते हैं: irinagubasova101@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting