सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बुझा सकेंगे दिमाग की बत्ती




एजेंसियां, लंदन 
अब जब चाहें दिमाग को 'स्विच ऑफ' मोड में डाला जा सकता है। वैज्ञानिकों ने लाइट पल्स के जरिए दिमाग की न्यूरल एक्टिविटी को शटडॉउन करने का तरीका खोज निकाला है। अमेरिकी यूनिवर्सिटी स्टैनफोर्ड के वैज्ञानिक कार्ल डिसरोथ ने 2005 में दिमागी कोशिकाओं को ऑन और ऑफ करने की जो तकनीक विकसित की थी, जिसे 'ऑप्टोजेनेटिक्स' नाम दिया गया। हालांकि अब डिसरोथ की टीम ने इस टेक्नॉलजी को और बेहतर बना दिया है। इसके जरिए दिमाग को अब पूरी तरह शटडाउन मोड में भेजा जा सकता है। 
ब्रिटेन के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ के डायरेक्टर के अनुसार, यह टेक्नॉलजी शोधकर्ताओं को इंसानी सोच, भावनाएं और बर्ताव से जुड़े ब्रेन सर्किट को समझने में बेहतर तरीके से मदद कर सकेगी। दरअसल दिमाग के बाईं ओर ऑप्सिन नाम का पदार्थ होता है, जो कंप्यूटराइज्ड इमेज में लाल रंग का दिखता है। यह लाल रंग दिमाग में मौजूद नेगेटिव सोच वाले चार्जर्स को दिखाता है और इस तकनीक जरिए नेगेटिव सोच के चार्जर्स को पॉजिटिव में बदला जा सकता है। दरअसल नई तकनीक में कुछ चैनल बनाए गए हैं, जो नकारात्मक सोच वाले आयनों को सकारात्मक में परिवर्तित करती है। 
मिरगी के मरीजों को फायदा 
बायोइंजीनियरिंग और बिहैवियेरियल साइंस के प्रफेसर और सीनियर ऑथर डिसरोथ ने कहा कि यह कुछ ऐसा है जो हम पिछले काफी वर्षों से चाह रहे थे। उन्होंने बताया कि नई तकनीक 10 अमीनो एसिड को ऑप्टोजेनेटिक प्रोटीन में बदलने पर निर्भर होगी। इसके जरिए एक ऐसा टूल इजाद हुआ है, जिससे न्यूरोसाइंटिस्ट्स दिमाग के किसी भी सर्किट को बंद कर सकते हैं। इस टेक्नॉलजी के साथ ही साइंटिस्ट दिमागी मरीजों के लिए स्पेशल ट्रीटमेंट बना पाएंगे, जिससे दिमाग के किसी भी हिस्से को रोशनी डालकर बंद किया जाएगा। स्वीडन में लुंड यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल की पीएचडी प्रफेसर मेराब कोकइया ने मिरगी की स्टडी के लिए ऑप्टोजेनेटिक्स का सहारा लिया और उन्होंने इस तकनीक की काफी सराहना भी की। उन्होंने बताया कि यह टेक्नॉलजी जानवरों में बिहेवियरल स्टडी को समझने के लिए इस्तेमाल की जा सकती है। यह तकनीक मिरगी की ऐसी स्थितियों में इस्तेमाल की जा सकती है जहां दवाइयां भी काम नहीं करतीं। sabhar :http://navbharattimes.indiatimes.com/

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मर्दों की सभी प्रकार की कमजोरी दूर कर सकता है एक चमत्‍कारी पौधा

जयपुर। हिंदुस्‍तान का थार रेगिस्‍तान सिर्फ अपने उजड़ेपन और सूनेपन के लिए ही पूरी दुनिया में नहीं जाना जाता है, बल्कि यहां की रेतों में कई ऐसे रहस्‍यमयी पौधे उगते हैं, जिनके उपयोग से कई खतरनाक बीमारियों को जड़ से खत्‍म किया जा सकता है। एक ऐसा ही पौधा है छुईमई। राजस्‍थान के कुछ हिस्‍सों में छुईमुई को अलाय नाम से जाना जाता है। आज हम बात करेंगे इसी चमत्‍कारी पौधे की। कई स्‍टडी में यह साबित हो चुका है कि छुईमुई के बीजों से खोई हुए मर्दाना ताकत फिर से पाई जा सकती है। इसकी जड़ों से लेकर बीज तक का उपयोग सभी प्रकार की बीमारियों को दूर करने में किया जाता है।


पांच ग्राम अलाय के बीजों का पाउडर भैंस के दूध में डालकर पीने से शारीरिक कमजोरियों से छुटकारा तो पाया ही जा सकता है, साथ सेक्‍सुअल पावर भी पाया जा सकता है। कमजोर मर्द यदि इसकी जड़ों और बीजों का चूर्ण लें तो वीर्य की कमी की शिकायत में काफी हद तक फायदा होता है। छुईमुई एक प्रकार का पौधा है, जिसकी पत्तियां मानव स्पर्श पाने पर अपनेआप सिकुड़ कर बंद हो जातीं हैं। कुछ देर बाद अपने आप ही खुल भी जातीं हैं| इसे अंग्रेजी में मिमोसा प्यूडिका कहते हैं| छु…

पोर्न स्टार्स की दुनिया

पोर्न इंडस्ट्री और पोर्न स्टार्स के बारे में लोगों को कई मिथ हैं। लेकिन एक ऑनलाइन वेबसाइट ने पोर्न इंडस्ट्री पर एक रिपोर्ट तैयार की है।औसत रूप से पुरुष पोर्न स्टार की सालाना कमाई तकरीबन 30 लाख 75 हजार रूपए होती है जबकि महिला पोर्न स्टार की कमाई 50 लाख है।

इसके अलावा महिला पोर्न स्टार की कमाई के और भी माध्यम हैं। सोशल मीडिया पर इनकी उपस्थिति तो है ही इसके अलावा ये इवेंट्स में भी जाती हैं और स्ट्रिप क्लब्स में भी जहां एक रात में इनकी कमाई 2 लाख या इससे ज्यादा हो जाती है। 

उदाहरण के तौर पर पोर्न स्टार जेन्ना जैमसन नाईट क्लब्स में प्रति रात 2 लाख रूपए तक ‌कमा लेती थी जबकि स्ट्रिप क्लब्स से पोर्न स्टार हूस्टन 20 लाख रुपए हर हफ्ते कमा लिया करती थी।

द रिचेस्ट ऑनलाइन के 2013 के आंकड़ों के मुताबिक, औसतन हर सेकंड में इंटरनेट पर 28,258 लोग पोर्नोग्राफी देखते हैं। इंटरनेट से जो मैटर डाउनलोड किए जाते हैं उनमें से 35 % पोर्न होता है। यही वजह है पोर्नोग्राफी के बिज़नेस की लोकप्रियता की।

इस इंडस्ट्री में प्रोडक्ट आसानी से बनते हैं और ये आसानी से उपलब्ध है। आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ यूएस में हर 34 वे…

जादू - टोना क्या सच में होता है ?

जादू - टोना क्या सच में होता है ?! अगर नहीं होता तो यह शब्द प्रयोग कैसे हुआ,क्यूँ हुआ ! प्राचीन काल में यह अधिक प्रयुक्त हुआ,आज भी इसके अंश विराजमान हैं।

जादू-टोना और नज़र लग जाने में फर्क है,नज़र तो अपनों की भी लग जाती है  …. परन्तु जादू-टोना एक अलग क्रिया है  . अनेक किताबें इस उद्देश्य से मिलती हैं,कई लोगों का खर्चा पानी इस जादू को करने और उतारने से बंधा होता है  .

पूजा के मन्त्रों का उच्चारण हम निरंतर करते हैं ताकि ऊपरवाले का वरद हस्त रहे  … ठीक उसी प्रकार बुरी चाह को निरंतरता में चाहना,उसके लिए विशेष पूजा करना एक खलल अवश्य उत्पन्न करता है,अनर्थ नहीं कर सकता  .

ऐसा सम्भव होता तो सब अमीर होते,सबके पति,सबकी पत्नियाँ वशीकरण मंत्र के जादू से वश में होते ! न बेरोजगारी होती ! यह सब मानसिक कमजोरी का प्रतीक है - कितनी सिद्धियाँ हासिल करके कोई अमर हुआ है भला !

कभी भी जीवन में एक पक्ष नहीं होता,एकपक्षीये व्यवहार उद्विग्न करता है,एकपक्षीये सामाजिक न्याय बीमार करता है और ऐसी परिस्थिति में व्यक्ति उलजलूल हरकतें करता है - या तो लम्बी ख़ामोशी या तो प्रलाप या फिर सर पटकना  …देखनेवाले घटना की तह …