Loading...

बुधवार, 5 मार्च 2014

(गीतकार समीर)- दिल को छू लेने वाले गीतों के जादूगर

0

बॉलीवुड के जाने-माने गीतकार समीर गीत लेखन के साथ उन्हें मर्मस्पर्शी बनाने की दक्षता भी रखते हैं। समीर ने एक से बढकर एक गीत लिखकर श्रोताओं को आज तक मंत्रमुंग्ध कर रखा है। समीर ने अपने तीन दशक के अपने कैरियर में लगभग 500 हिंदी फिल्मों के लिये गीत लिखे।

Sameer: Who writes songs from his heart

Sameer: Who writes songs from his heart

बैंक अधिकारी के रुप में अपने कैरियर की शुरूआत करने के बाद बालीवुड में अपने गीतों से श्रोताओं को मंत्र मुग्ध करने वाले गीतकार समीर लगभग चार दशक से सिनेप्रेमियों के दिलों पर राज कर रहे है। समीर ने लगभग 6,000 फिल्मी और गैर फिल्मी गाने लिखे है। उन्होंने हिन्दी के अलावा भोजपुरी, मराठी फिल्मों के लिये भी गीत लिखे है।80 के दशक में गीतकार बनने का सपना लिये समीर ने मुंबई की ओर रूख कर लिया। लगभग 3 साल तक मुंबई में रहने के बाद वह गीतकार बनने के लिये संघर्ष करने लगे। काफी मेहनत करने के बाद 1983 में उन्हें बतौर गीतकार ''बेखबर'' फिल्म के लिये गीत लिखने का मौका मिला।इस बीच समीर को इंसाफ कौन करेगा, जवाब हम देगे, दो कैदी, रखवाला, महासंग्राम, बीबी हो तो ऐसी, बाप नंबरी बेटा दस नंबरी जैसी कई बड़े बजट की फिल्मों में काम करने का अवसर मिला लेकिन इन फिल्मों की असफलता के कारण वह फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में नाकामयाब रहे।लगभग 10 वर्ष तक मुंबई में संघर्ष करने के बाद वर्ष 1990 में आमिर खान-माधुरी दीक्षित अभिनीत फिल्म ''दिल'' में अपने गीत 'मुझे नींद ना आये' की सफलता के बाद समीर गीतकार के रूप में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गये।वर्ष 1990 में ही उन्हें महेश भट्ट की फिल्म आशिकी में भी गीत लिखने का अवसर मिला। फिल्म 'आशिकी' में 'सांसों की जरूरत है जैसे', 'मैं दुनिया भूला दूंगा' और 'नजर के सामने जिगर के पास' गीतों की सफलता के बाद 'समीर' को कई अच्छी फिल्मों के प्रस्ताव मिलने शुरू हो गये।जिनमें बेटा, बोल राधा बोल, साथी, और 'फूल और कांटे' जैसी बडे बजट की फिल्में शामिल थी। इन फिल्मों की सफलता के बाद उन्होंने सफलता की नयी बुलंदियों को छुआ और एक से बढकर एक गीत लिखकर श्रोताओं को मंत्रमुंग्ध कर दिया
Sameer: Who writes songs from his heart
वर्ष 1997 में अपने पिता अंजान की मौत और अपने मार्गदर्शक गुलशन कुमार की हत्या के बाद समीर को गहरा सदमा पहुंचा। इस हत्याकांड में संगीतकार नदीम का नाम आने पर उन्होंने कुछ समय तक फिल्म इंडस्ट्री से किनारा कर लिया और वापस बनारस चले गये।
Suchitra Singh



sachar :http://www.niticentral.com/



0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting