सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

December 22, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार सबसे गरीब मुख्यमंत्री

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक सरकार (फोटो ऊपर देखें) भारत के सबसे गरीब मुख्यमंत्री हैं। उनके पास करीब 2.5 लाख रुपए की चल-अचल संपत्ति है। इनमें 9720 रुपए का बैंक जमा और 1080 रुपए की नकद राशि शामिल है। माणिक के मुताबिक, उन्होंने ज्वैलरी, शेयर, बांड और अन्य निवेश के साधनों में कोई पैसा नहीं लगाया है। उनका कहना है कि जब उन्हें देश का सबसे गरीब मुख्यमंत्री कहा जाता है, तो उन्हें शर्म महसूस होने की बजाय अच्छा लगता है।आम आदमी के हक की लड़ाई लड़ने की बात कर रहे अरविंद देश के सबसे गरीब मुख्यमंत्री नहीं हैंकेजरीवाल दपंत्ति देश के करोड़पति मुख्यमंत्री दंपत्तियों की लिस्ट में शामिल हो जाएंगे। दिलचस्प है कि उनके और उनकी पत्नी सुनीता के पास कुल मिलाकर 2.10 करोड़ रुपए की संपत्ति है।
केजरीवाल द्वारा चुनाव आयोग को दी गई जानकारी के मुताबिक, अरविंद के नाम 93.62 लाख रुपए की दौलत है। इनमें गाजियाबाद (यूपी) के इंद्रापुरम में 55 लाख रुपए का फ्लैट और हरियाणा में करनाल जिले के शिवानी में 37 लाख रुपए का एक फ्लैट शामिल है। इसके अलावा दिल्ली के नवनियुक्त मुख्यमंत्री के पास 1.62 लाख रुपए का बैंक डिपॉजिट और 5000 र…

दस नयी तकनीकें, जो बदलेंगी दुनिया

आज के नॉलेज में चर्चा 2013 में सामने आयी उम्मीद जगानेवाली दस ऐसी तकनीकों की, जो आनेवाले वर्षो में हमारे जीने का अंदाज बदल सकती है. नया सोलर पैनल मौजूदा समय में बाजार में उपलब्ध सोलर पैनल में सिंगल सेमीकंडक्टिंग सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है, जिसे आम तौर पर सिलिकॉन के रूप में जाना जाता है. चूंकि सोलर स्पेक्ट्रम के संकरे बैंड महज कुछ ही सामग्री को अवशोषित कर पाते हैं, इसलिए सूर्य से हासिल होनेवाली अधिकांश गरमी ऊर्जा के तौर पर परिवर्तित नहीं हो पाती है और वह विनष्ट हो जाती है. इस तरह ये पैनल 20 फीसदी से भी कम ऊर्जा को इलेक्ट्रिसिटी में तब्दील कर पाते हैं. हाल ही में ईजाद की गयी नयी तकनीक के माध्यम से अब इसकी क्षमता को कम से कम 50 फीसदी तक बढ़ाया जा सकेगा. इसे कुछ इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसमें छह से आठ कम्पोनेंट वेवलेंथ लगाये गये हैं. इसके माध्यम से प्रत्येक अलग तरह प्रकाश का रंग बिखेरेगा और प्रिज्म की भांति यह कार्य करेगा. इसके बाद प्रत्येक रंग को सेमीकंडक्टर निर्मित सेल को भेजेगा, जो इसे अवशोषित करेगा. जैसे ही प्रकाश इस सामग्री में दाखिल होगा, तो पतले ऑप्टिकल फिल्टरों की श्रृ…

मेडिकल साइंस की दुनिया में क्या कुछ रहा खास 2013

वर्तमान समय में जिस तरह तकनीक जीवन का एक अहम हिस्सा बन गई है कुछ उसी तरह विज्ञान भी प्रत्येक व्यक्ति के लिए बहुत उपयोगी सिद्ध हो रहा है. नए-नए आविष्कार मानव जीवन को बहुत सहज बना देते हैं और इस साल भी विज्ञान के क्षेत्र में कुछ ऐसे आविष्कार हुए, ऐसी क्रांतियां आईं जिन्होंने विकास की राह को और आसान कर दिया. साल 2013 अपने अंतिम क्षणों में हैं तो चलिए जाते-जाते हम आपको बताते हैं कि इस साल विज्ञान के क्षेत्र में हमें क्या उपलब्धियां हासिल हुईं: कैंसर इम्यूनोथेरेपी: इस साल विज्ञान के क्षेत्र में सबसे बड़ी उपलब्धि या कहें क्रांति साबित हुई कैंसर इम्यूनोथेरेपी. इस थेरेपी के अर्थ है मानव शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कुछ इस हद तक बढ़ाना ताकि वह ट्यूमर से मुकाबला करने में सक्षम हो जाए. वैसे तो कई दशक पहले से ही वैज्ञानिक ऐसे तरीके की खोज में लगे थे जिससे कि कैंसर के ट्यूमर को शरीर पर हावी ना होने दिया जा सके लेकिन अभी तक ऐसा मुमकिन नहीं हो पाया था. परंतु इस साल वैज्ञानिकों को यह उपलब्धि हासिल हो गई और आखिरकार कैंसर के ट्यूमर से लड़ने के लिए वैज्ञानिकों एंटीबॉडीज का आविष्कार कर लिया जो शरीर के भीतर ट…

बेटे की लाश पर सोता रहा बाप, रंगरेलियां मनाती रही बहू

लखनऊ/रायबरेली. यदि आस-पास वहशी इंसान हो तो जिदंगी का कितना क्रूर रंग देखने को मिल सकता है, इसकी मिसाल पिछले दिनों रायबरेली से सामने आई। यहां एक बूढ़ा बाप 6 महीने तक अपने बेटे की लाश के ऊपर चारपाई डाले रातों को करवटें बदलता रहा। इस बुजुर्ग और मजबूर इंसान को यह नहीं मालूम था कि जिस इकलौते बेटे को वह लापता मान रहा है वह उसकी तख्त के नीचे जमीन में गड़ा हुआ है। यही नहीं उस पिता की गैर मौजूदगी में उसके बेटे की हत्या करने वाले उसी तख़्त पर नाजायज संबंध बनाते रहे। जब बीती बरसात में घर में पानी भरा तो पूरा मामाल उजागर हुआ साथ ही सामने आई शर्मसार करने वाले रिश्ते और इंसानियत। इस घटना की नींव पिछले साल फ़रवरी में पड़ी, जब रायबरेली के भदोखर थानाक्षेत्र के बेलहिया गांव के रहने वाले चन्द्रपाल यादव ने थाने में अपने 22 वर्षीय बेटे राम कुमार यादव की गुमशुदगी दर्ज कराई। वह 14 जनवरी 2013 से लापता है, जो काफी खोजबीन के बाद भी नहीं मिला। तत्कालीन थानाध्यक्ष ने एफआईआर नंबर-34 में गुमुशदुगी दर्ज कर राम कुमार को खोजने का प्रयास किया, लेकिन कुछ पता न चला। बुजुर्ग दंपति चन्द्रपाल और उनकी पत्नी जनक दुलारी यादव अपने…

मेडिकल साइंस का एक अजूबा महिला ने 10 बच्चों को जन्म दिया।

वह महिला अगर चीन में होती तो शायद सजा की हकदार होती लेकिन वह भारत में है तो सुरक्षित है। बच्चे एक-दो नहीं बल्कि दस! आज के जमाने में छोटा परिवार सुखी परिवार माना जाता है लेकिन हर चीज आपके मन मुताबिक नहीं होती। कुछ चीजें आज भी विधाता की मर्जी से ही होती हैं। आप लाख परिवार नियोजन अपना लो कि बस एक ही बच्चा चाहिए लेकिन भगवान की मर्जी.आपको जुड़वा बच्चे हो गए तो कुछ नहीं कर सकते। लेकिन जुड़वा बच्चों में भी दो-तीन, चार भी आपने सुना होगा.. 10 बच्चों के बारे शायद न सुना हो। अभी हाल ही में ऐसी ही घटना सामने आई तो सभी हैरान रह गए। अब तक के मेडिकल इतिहास में यह सबसे अधिक जुड़वा बच्चों का रिकॉर्ड है। मध्य प्रदेश का रीवा शहर उस वक्त मीडिया की सुर्खियों में आ गया जब यहां अंजू नाम की गर्भवती महिला के 10 बच्चे होने की खबर आई। रीवा के संजय गाधी मेमोरियल अस्पताल में 28 वर्षीय अंजू ने 10 बच्चों को जन्म दिया। हालांकि सभी बच्चे मृत पैदा हुए लेकिन मेडिकल साइंस के इतिहास में भी यह एक अजूबा से कम नहीं। डॉक्टर भी इसे एक अजूबा ही मान रहे हैं। मध्य प्रदेश में सतना जिले की अंजू कुशवाहा और संतोष की शादी 10 साल पहल…

जीपीएस तकनीक से इंसान का ऑपरेशन

बहुत जल्द सर्जन भी रास्ता बताने वाली तकनीक का ऑपरेशन में उपयोग करेंगे. थ्री डी तस्वीरों का इस्तेमाल कर ऑपरेशन सटीक और सुरक्षित बन पाएंगे. इंफ्रारेड कैमरों ने डॉक्टरों को रास्ता दिखा दिया है.

एक मिनट के लिए सोच कर देखिए आप ऑपरेशन थिएटर में हैं और सर्जन, प्रोफेसर गेरे स्ट्राउस साइनस का ऑपरेशन करने वाले हैं. पांच मॉनिटर अर्धगोलाकार स्थिति में ऑपरेशन टेबल पर रखे हुए हैं. ऊपर एक बड़ा मॉनिटर टंगा हुआ है और बीच में दो इन्फ्रारेड कैमरे लगे हैं. गेरो स्ट्राउस कहते है जिस तरह से ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम जीपीएस कारों में इस्तेमाल किए जाते हैं ठीक उसी तरह यहां भी होगा. स्ट्राउस के मुताबिक, "कार में आपके पास सेटेलाइट होता है और यह सेटेलाइट मैप के हिसाब से कार की स्थिति बताता है." ऑपरेशन में इंफ्रारेड कैमरे यही काम करते हैं, वो लगातार ऑपरेशन की तस्वीरें भेजते रहते हैं. एक छोटा रिसीवर उस मरीज से जुड़ा होता है जिसकी तस्वीर कैमरे से उतारी जाती है. जीपीएस सिस्टम में इस्तेमाल होने वाले मैप की जगह डॉक्टरों के पास सीटी स्कैन या फिर एमआरई की तस्वीर होती है जो उन्हें बताती है कि वो ठीक जा रहे हैं. न…

चेतना और नई भौतिकी

googale photo

चेतना और भौतकी को समझने के लिये  क़ुछ वैज्ञानिको ने  किताबे लिखी है जिसमे चेतना और भौतकी को समझा जा सकता है  धारणा का विकास " क्रिस ऑट द्वारा. उन्होंने कहा कि वह आज है कि जटिल आध्यात्मिक सिद्धांतों था पहले बहुत पहले, आदमी को समझाने के लिए अपने अनुभव था. समय के साथ, वह अपने अनुभव को समझाने के लिए सैद्धांतिक संस्थाओं का आविष्कार किया. वह धीरे धीरे इन आविष्कार बातें समझा आवश्यक बातें जो बन आदि देवताओं, लोगो, रूपों, क्या बात है, मोनाड्स, बुद्धि तत्व, मन, आत्मा, आकाश, अन्तरिक्ष, सूपेर्स्त्रिंग्स, आयाम, आविष्कार किया. ग्रेट तर्क वह अनुभव की व्याख्या करने का आविष्कार किया था संस्थाओं के अस्तित्व को साबित करने के लिए, उन्हें समझाने के लिए उत्पन्न किया गया. धीरे - धीरे आदमी यह अब अपने सिद्धांतों के साथ संगत लग रहा था के बाद से, अनुभव ही सवाल करने लगे. अनुभव, एक बार विवाद और आदमी की जांच की शुरुआती बिंदु से परे हो गया था जो कि घटना, अब सैद्धांतिक इकाई था, और वह कोई सीधा सबूत नहीं था जिसके लिए इस तरह के पदार्थ और ऊर्जा के रूप में अपने आविष्कार संस्थाओं,,, वास्तविकता थे. दुनिया …

रहस्य वैज्ञानिक अब तक न समझ सके

देश का गुजरात राज्य विविधताओं से परिपूर्ण है और अपने विशिष्ट भौगोलिक स्थानों के लिए विश्व विख्यात है।

तुलसीश्याम : प्रसिद्ध एशियाटिक लायंस के जंगल ‘गिर’ की यात्रा के समय आप इस रहस्यमयी स्थल का मुआयना कर सकते हैं। तुलसीश्याम नामक यह जगह पहले गरम पानी के सोते के लिए प्रसिद्ध थी, लेकिन अब इससे और एक नया रहस्य जुड़ गया है। तुलसीश्याम से मात्र 3 किमी दूर एक ढलवां सड़क है। इसकी खासियत यह है कि अगर ढाल पर आप अपना वाहन बंद कर लुढ़काना शुरू कर दें तो आपका वाहन नीचे आने की बजाय ऊपर की ओर आने लगता है। इतना ही नहीं, अगर इस ढाल पर आप पानी गिरा दें तो वह भी नीचे आने की बजाय ऊपर की ओर चढ़ने लगता है। अब यह ढलवां सड़क इतनी प्रसिद्ध हो चुकी है कि यहां सैलानियों का हर समय तांता लगा रहता है।


काला डुंगर : यह कच्छ की सबसे ऊंची जगह है। तुलसीश्याम की तरह यह स्थल भी अचरज से परिपूर्ण है। यहां से गुजरने वाली सड़क की खासियत यह है कि ढाल से उतरते समय अचानक ही रफ्तार बढ़ जाती है। इतना ही नहीं ढाल चढ़ते समय भी वाहन की रफ्तार बढ़ जाती है। आमतौर पर ढाल चढ़ते समय काफी परेशानी होती है, लेकिन इस रहस्यमयी जगह का मामला ठीक …

पुनर्जन्म के सम्बंध सच्ची कहानिया

पुनर्जन्म के सम्बंध  सच्ची कहानिया प्रकासित हुई है जिससे  आत्मा और परमात्मा मे विश्वास और बडता जाता है जिसका विवरण नीचे दिया जा रहा है 

मनुष्य ने अपने पूर्व जन्म के माता-पिता और संबंधियों के नाम तक बता दिए हैं। पुनर्जन्म की यह घटना अनोखी है। यह घटना विदुषी महिला की है। उसे जीवन भर अपने दो पूर्व जन्मों की याद बनी रही। इससे पहले एक जन्म की याद के किस्से ही सुने गए हैं। यह घटना मध्यप्रदेश के टीकमगढ़ जिले की है। वर्ष 1948 में जिला शिक्षा अधिकारी के घर एक लड़की ने जन्म लिया। उसका नाम स्वर्णलता मिश्र रखा गया। साढ़े तीन साल की होने पर इस बच्ची ने कहना शुरू कर दिया कि मेरा घर कटनी में है। वहां मेरे माता-पिता और चार भाई रहते हैं। तुम लोग मुझे वहां ले चलो। उसने अपने पूर्व जन्म के पिता (प्रतिष्ठित जमींदार) और भाइयों के नाम, पते बताए। यह भी जानकारी दी कि उसकी शादी मैहर में पांडेय परिवार में हुई थी। जहां उसके दो बेटे और एक बेटी रहती हैं। उसने उनके नाम भी बताए। यह भी बताया कि उसकी मृत्यु 31 वर्ष की आयु में हृदयाघात से हुई थी।
की गई छानबीन
बेटी के पुनर्जन्म की स्मृतियों को सुनकर पिता चकित रह गए। उन्होंन…

कैसा होगा दम तोड़ती पृथ्वी पर जीवन

‘इंटरनेशनल जर्नल ऑफ एस्ट्रोबायोलॉजी’ में प्रकाशित होने जा रहे एक लेख में वैज्ञानिकों ने यह बताया है कि जब सूर्य पृथ्वी को “भूनने” लगेगा तो यहां जीवन कैसा होगा तथा इतर-ग्रहों के खगोलविद उसे किस रूप में देखेंगे| पांच अरब साल बाद सूर्य अत्यंत “फूल” जाएगा और उसका व्यासार्ध आज से 256 गुना अधिक हो जाएगा| पृथ्वी की कक्षा संभवतः उसी में समा जाएगी| किंतु इससे काफ़ी पहले आज से 1-2 अरब साल बाद ही पृथ्वी की सतह गरम होने लगेगी, महासागर खौलने लगेंगे| जीवन केवल जीवाणुओं के रूप में बचा रहेगा| वे भी और एक अरब साल बाद पूरी तरह नष्ट हो जाएंगे जब हमारे ग्रह का तापमान 300 डिग्री सेंटीग्रेड तक पहुंच जाएगा| sabhar :http://hindi.ruvr.ru
और पढ़ें: http://hindi.ruvr.ru/news/2013_11_03/248755138/