सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

January 6, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जर्मन एक्टर पर बेटी ने लगाया रेप का आरोप

दुनिया क्लाउस किंस्की को फिट्जकराल्डो जैसी महान फिल्मों के शानदार हीरो के रूप में याद करती है लेकिन उनकी बेटी ने पिता पर बचपन में 14 साल तक बलात्कार करने का आरोप लगाया है. आरोप का जिक्र बेटी पोला किंस्की की किताब में है. क्लाउस किंस्की की 1991 में मौत हो गई और तब उनकी उम्र 65 साल थी. उनकी बेटी पोला किंस्की अब 60 साल की हो गई हैं और पिता की मौत के 20 साल बाद उन्होंने इस बारे में अपनी जुबान खोली है. पोला ने बताया, "मैं सालों तक चुप रही क्योंकि वे मुझे इस बारे में बात करने से मना करते थे." पोला के मुताबिक क्लाउस किंस्की ने छह सात साल की उम्र से ही उनके साथ यौन हरकतें शुरू कर दी थी और 9 साल की उम्र में पहली बार सेक्स किया.
पोला किंस्की 14 साल तक एक मशहूर पिता अपनी बेटी के साथ यौन दुराचार करता रहा. बचपन में ही जवान बनने को मजबूर कर दी गई पोला किंस्की इन अत्याचारों की वजह से अपनी जवानी के दिनों में हमेशा गलती और शर्म के अहसास के नीचे दबी रहीं और कभी भी सामान्य जिंदगी नहीं जी सकीं.
क्लाउस अपनी बेटी के साथ सेक्स करते और इसे सामान्य बात बताते. पोला के मुताबिक, "भ…

ये पांचों ऐप्स हैं या इंसान की जिंदगी बदलने वाले जादूगर...हैरान करने वाली हैं इनकी खूबियां

आज की तारीख में आपकी करीब-करीब हर जरूरत को पूरा करने के लिए ऐप मौजूद हैं। हम ऐसे ही पांच ऐप्स पर नजर डालते हैं, जिन्होंने भारतीय बाजार में अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। दस वर्षीया श्वेता ने गणित में अपने खराब प्रदर्शन में शानदार सुधार किया है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इसके लिए उसे किसी ट्यूटर ने नहीं, बल्कि एक मोबाइल अप्लीकेशन ‘टैबटर’ से सहायता मिली। ‘टैबटर’ ऐपल के आईओएस प्लेटफार्म पर चलने वाला एक विशेष एजुकेशनल ऐप है। इस ऐप को डेवलप करने वाली कंपनी ‘प्राजऐज’ उन हजारों कंपनियों में से एक है जो देश में स्मार्ट मोबाइल फोन, टैबलेट्स और अन्य गैजेट्स के बढ़ रहे बाजार में अपने लिए संभावनाएं तलाश रहीं हैं। स्मार्टफोन धारकों की बढ़ती संख्या ने इस बाजार को और आकर्षक बना दिया है। एक अनुमान के मुताबिक 2016 तक देश, दुनिया के अग्रणी ऐप बाजारों में शामिल हो जाएगा। भारत, उस समय तक दुनिया की सबसे बड़ी ताकत अमेरिका को भी पीछे छोड़ दे तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया के मुताबिक वर्तमान में देश में ऐप का बाजार करीब 1800 करोड़ रुपए का है।
टैबटर कठिन सवाल कर…