Loading...

शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2013

क्या आप जानते हैं ? मौत के बाद भी शरीर के ये 8 अंग करते रहते हैं काम!

0

क्या आप जानते हैं ? मौत के बाद भी शरीर के ये 8 अंग करते रहते हैं काम!

क्या आप यह कल्पना कर सकते हैं कि आपके शरीर के मरने के बाद भी यह ब्रेन जिंदा रहेगा ? सुनने में भरोसा नहीं होता है, लेकिन यह सच है। विख्यात भौतिक विज्ञानी स्टीफन हॉकिंग के अनुसार टेक्नॉलॉजी से यह संभव है।
टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार कैंब्रिज फिल्म फेस्टिवल के दौरान प्रो. हॉकिंग ने कहा कि मेरा सोचना है कि माइंड में ब्रेन एक प्रोग्राम की तरह है। यह एक कंप्यूटर की तरह है इसलिए सैद्धांतिक तौर पर कंप्यूटर में ब्रेन की कॉपी करना भी संभव है। यही कारण है कि मौत के बाद भी ब्रेन एक रूप में जीवित रहता है।
एक स्वतंत्र रिसर्च ग्रुप ब्रेन प्रिजर्वेशन फाऊंडेशन एक प्लास्टिक एम्बेडिंग प्रोसेसर विकसित करने में लगा हुआ है। यह प्रक्रिया ब्रेन को प्लास्टिक में बदलने से जुड़ी हुई है और इसे एक बहुत बारीक पट्टियों में खींचा जा रहा है।
मस्तिष्क के अतिरिक्त भी शरीर में ऐसे कई फंक्शन हैं, जो मौत के बाद भी कुछ मिनट, घंटों और दिनों तक जारी रहते हैं। दुनिया के बहुत से वैज्ञानिक बॉडी के उन अंगों के रहस्य खोजने में लगे हैं, जो मौत के बाद भी जीवित रहते हैं।
- नाखून और बालों का बढऩा : यह एक तकनीकी फंक्शन है न कि वास्तविक फंक्शन। बॉडी अधिक बाल और नाखून पैदा नहीं करती है, लेकिन ये दोनों मौत के बाद भी बढ़ते हैं। वास्तव में स्किन से नरमी खत्म होती है और पीछे की ओर खिंच जाती है, जिससे बाल बाहर की ओर अधिक निकल आते हैं और नाखून बढ़े हुए दिखाई देते हैं।
क्या आप जानते हैं ? मौत के बाद भी शरीर के ये 8 अंग करते रहते हैं काम!


त्वचा की सेल बढ़ती है : शरीर के मृत होने की प्रक्रिया में यह एक अन्य फंक्शन है। जब ब्लड सर्कुलेशन में कमी आती है तो इससे कुछ ही मिनटों में मस्तिष्क की मौत हो जाती है, जबकि अन्य सेल्स का जीवित रहना जरूरी नहीं है लेकिन स्किन सेल्स कुछ दिन तक जीवित रह सकती हैं।
- मूत्र उत्सर्जन : हम यह सोचते हैं कि पेशाब करना एक ऐच्छिक फंक्शन है। ब्रेन मूत्र की पेशी को नियंत्रित करता है। हालांकि कठोर खांचा मशल्स को कड़ा कर देता है, इससे पेशाब नहीं होती है, लेकिन जब मौत के कुछ देर बाद मशल रिलैक्स होती है तो मौत के बाद भी पेशाब हो जाती है।
-पाचन : हम यह भूल जाते हैं कि हमारे शरीर में कई जीव भी होते हैं। मौत होने के बाद भी बैक्टीरिया शरीर में जिंदा बने रहते हैं, इनमें से बहुत से पैरासाइटिक भी होते हैं। ये डाइजेशन में हमारी मदद करते हैं। मौत के बाद भी ये अपना काम करते रहते हैं। बहुत से पैरासाइट आंतों के अंदर होते हैं और गैस बनाते हैं।
क्या आप जानते हैं ? मौत के बाद भी शरीर के ये 8 अंग करते रहते हैं काम!

 शिश्न का खड़ा होना और वीर्य का स्राव होना : जब हार्ट बॉडी के अंदर शरीर के खून को रोकता है तो यह एक छोटे से एरिया में इकट्ठा हो जाता है। मौत के बाद कभी-कभी कैलशियम के लिए झिल्ली पारगम्य हो जाती है और सेल्स इतनी अधिक नहीं फैलती हैं, जितना आयन (एक मॉलीक्युलर जो इलेक्ट्रिकली चार्ज होता है) बाहर आते हैं। इनके बाहर आने के कारण मसल सिकुड़ती हैं और इससे मौत के बाद शरीर कड़ा हो जाता है और इससे स्खलन हो सकता है।
क्या आप जानते हैं ? मौत के बाद भी शरीर के ये 8 अंग करते रहते हैं काम!

 मांसपेशियों (मसल)में हरकत : ब्रेन की डेथ होने के बाद भी शरीर के अन्य हिस्सों में स्नायु संस्थान सक्रिय हो सकता है। मौत के बाद भी शरीर की हलचल को अक्सर देखा गया है।  दरअसल नर्व स्पाइनल कॉर्ड को सिग्नल भेजती हैं न कि ब्रेन को। इससे मांसपेशियों में हरकत और ऐंठन दिखाई देती है

आवाज निकलना : मौत होने के बाद शरीर की सभी मांसपेशियां कड़ी हो जाती हैं, इसमें वोकल कॉर्ड्स (स्वर तंतु) भी शामिल है। मौत होने पर मांस पेशियां कठोर होती हैं इससे वोकल कॉर्ड्स के अकडऩे से भी डेडबॉडी से एक डरावनी आवाज निकलती है। लोगों को कई बार मृत शरीर से कराहने, आह, और चरमराने की आवाजें सुनाई देती हैं।
- जन्म देना : कभी बहुत ही रेयर घटनाक्रम में देखा गया है कि  गर्भवती महिलाएं मौत के बाद भ्रूण बाहर आ जाता है। यह शरीर के अंदर गैस बनने और मांस के साफ्ट होने के कारण होता है। इस तरह की घटनाएं बेहद दुर्लभ हैं और कई बार अफवाहें भी आती रहती हैं। sabhar : bhakar.com

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting