Loading...

बुधवार, 7 अगस्त 2013

70 वर्ष में सेक्स की तलब, कर बैठा यह गुनाह!

0

PHOTOS: 70 वर्ष में सेक्स की तलब, कर बैठा यह गुनाह!

घटना के मुताबिक, एक दिन 70 वर्षीय दशरथ(तब 66) ने अपनी बेटी की ननद को अपने मोहजाल में फंसाया और उसे घर ले गया। ननद की दिमागी हालत ठीक नहीं थी। घर में अकेला पाकर उसने लड़की के संग अपनी वासना मिटा दी। हालांकि इस बारे में लड़की ने किसी को कुछ नहीं बताया, पर एक दिन जब घरवालों को पता चला कि वो गर्भवती है, तो जैसे भूचाल आ गया।
PHOTOS: 70 वर्ष में सेक्स की तलब, कर बैठा यह गुनाह!


अपनी बेटी की मानसिक रूप से विक्षिप्त ननद के साथ बलात्कार करने के आरोप में 70 साल का दशरथ अब सात साल कैद भुगतेगा। अदालत ने आरोपी पर 15 हजार रुपयों का जुर्माना भी ठोंका।

लार्डगंज थानांतर्गत आगा चौक के पास रहने वाले दशरथ बेन की पुत्री प्रसव के लिए वर्ष 2009 में अस्पताल में भर्ती थी। उसकी देखभाल के लिए उसकी ननद भी अस्पताल में थी। वहां पहुंचे आरोपी दशरथ ने बेटी की मानसिक रूप से विक्षिप्त ननद से कहा कि वह अपने घर चली जाए, अस्पताल में वह रुकेगा।
PHOTOS: 70 वर्ष में सेक्स की तलब, कर बैठा यह गुनाह!


इसके बाद जब लड़की अपने घर के लिए रवाना हुई तो कुछ देर बाद आरोपी भी अस्पताल से निकल गया। इसके बाद बेटी की ससुराल पहुंचकर आरोपी दशरथ ने अपने समधी से कहा कि वे अस्पताल चले जाएं, क्योंकि वहां पर कोई नहीं है। यह सुनकर समधी अस्पताल चले गए और तभी आरोपी दशरथ ने पीडि़त लड़की (अपनी बेटी की ननद) को घर में अकेली पाकर उसका बलात्कार कर दिया। साथ ही उसे धमकी भी दी कि वह यह बात किसी को न बताए।
कुछ दिन बाद पीडि़त लड़की की तबियत बिगड़ी। इलाज के दौरान डॉटर ने उसकी सोनोग्राफी कराई, जिसमें उसके गर्भवती होने का पता चला। पहले तो पीडि़त लड़की ने कुछ नहीं बताया, लेकिन जब पिता ने सख्ती की तब उसने पूरी घटना अपने घर वालों को बता दी। तब मामले की शिकायत लार्डगंज थाने में की गई, जहां पर आरोपी के खिलाफ  भादंवि की धारा 376, 506बी के तहत प्रकरण दर्ज कर चालान कोर्ट में पेश किया गया। ट्रायल के दौरान मानसिक रूप से विक्षिप्त लड़की ने पूरी घटना का विवरण बताया। हालांकि कुछ समय बाद एक हादसे में उसकी मौत हो गई थी।












इस मामले में अब 70 साल का दशरथ 7 साल जेल की सजा भुगतेगा। इस घटना ने समाज को स्तब्ध कर दिया है। लोगों का कहना है कि समाज को ऐसी विकृतियों से बचाने के लिए चिंतन करना जरूरी है। sabhar : bhaskkar.com

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting