मंगलवार, 6 नवंबर 2012

Vigyan India.com: पांच तरकीब जो बदल देंगी आपकी दुनिया

Vigyan India.com: पांच तरकीब जो बदल देंगी आपकी दुनिया

आईबीएम वैसे तो आधुनिक कंप्यूटरों और तकनीक के लिए मशहूर है, लेकिन अब यह कंपनी पांच ऐसी नई तरकीब बाजार में ला रही है जिससे इंसान की जिंदगी बदल सकती है.


My Photo

रविवार, 4 नवंबर 2012

102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर

खरखौदा। 102 वर्ष उम्र में दूसरी बार पिता बनने का सौभाग्य प्राप्त कर चुके रामजीत राघव को दूसरे देश से आर्थिक मदद मिली है। रामजीत बेहद गरीब है और तंगहाली में जीवन व्यतीत कर रहा है। उसे अमेरिका की बनिता स्प्रिंग हिस्टॉरिकल सोसाइटी की ओर से 10 डालर की मदद भेजी गई है।102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर
गुरुवार को खरखौदा के वार्ड संख्या 9 में रहने वाले रामजीत के पास डाकिया पहुंचा और उसे एक लिफाफा थमाते हुए बताया कि उसे अमेरिका से किसी ने पत्र भेजा है। जिसे खोलकर देखा गया तो उसमें अमेरिका की बनिता स्प्रिंग हिस्टोरिकल सोसाइटी की ओर से दस डालर भेजे गए थे। रामजीत ने अपने दूसरे बेटे का नाम रणजीत रखा है। दो वर्ष पहले रामजीत राघव के पहले बेटे विक्रमाजीत का जन्म हुआ था गत 5 अक्टूबर को शहर के सरकारी अस्पताल में उसकी पत्नी शकुंतला ने दूसरे स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया तभी से यह बात लोगों के बीच में चर्चा का विषय बनी हुई है। वहीं रामजीत के शाकाहारी होने के चलते जानवरों के लिए काम करने वाली संस्था पेटा भी रामजीत का साक्षात्कार ले चुकी है।102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर



मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, आस्ट्रेलिया की एबीसी न्यूज रामजीत राघव पर डॉक्यूमेंट्री फिल्म बनाने की शुरुआत कर चुकी है और इसकी शूटिंग खरखौदा में हो रही है। 
 
रामजीत राघव के पास अद्भुत सेक्स पावर है, इसका लोहा तो दुनिया मान चुकी है। रामजीत अपनी उम्र को 100 साल से ऊपर का बताते हैं। अभी भारतीय मीडिया में आई खबरों में भी उनको 102 साल का बताया गया है जबकि इंटरनेशनल मीडिया उनकी उम्र 96 साल मानती है।
 
 
लेकिन रामजीत की उम्र 96 साल मानने के बावजूद वह विश्व के सबसे वृद्ध पिता हैं। उन्होंने 2010 में पहले बच्चे का बाप बनकर यह वर्ल्ड रिकॉर्ड स्थापित किया था। अब, 2012 में दूसरे बच्चे का पिता बनकर उन्होंने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा है।


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर
रामजीत राघव दो बेटों को पाकर बहुत खुश हैं। रामजीत का कहना है कि वह बेहद स्वस्थ महसूस करते हैं और वाइफ के साथ सेक्स लाइफ को इंज्वाय करते हैं वह हसबैंड और वाइफ के बीच रेगुलर सेक्स को मैरिज लाइफ के लिए बहुत जरूरी मानते हैं। रामजीत हरियाणा के सोनीपत में झोपड़ी में बीवी-बच्चों के साथ रह रहे हैं और खेतों में काम करके गुजारा चलाते हैं।
 
 
रामजीत की बीवी शकुंतला कहती हैं कि वह मुझे बिल्कुल भी बूढ़े नहीं लगते। वह 25 साल के मर्द की तरह मुझसे प्यार कर सकते हैं और सारी रात जारी रह सकते हैं। वह बेहतरीन पिता हैं। रामजीत का कहना है कि उनको काम करना अच्छा नहीं लगता। लेकिन चूंकि उनके  बच्चे  हैं इसलिए उनकी परवरिश के लिए खेतों में जाकर काम करना पड़ता हैं। रामजीत का कहना है कि वे सुबह में छह बजे उठते हैं और रोज लगभग नौ-दस घंटे काम करते हैं।  वह एक सप्ताह में लगभग हजार रुपए कमा लेते हैं।


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर

वह अपनी बीवी के साथ खुशी-खुशी जीवन गुजार रहे हैं। बच्चों के साथ वह बहुत खेलते हैं। जहां वह काम करते हैं वहां अपनी बीवी-बच्चों को ले जाते हैं। वह रसोई बनाने जैसे घरेलू और अन्य कामों में अपनी बीवी की मदद करते हैं। अपने बच्चों की परवरिश में भी वह बढ़-चढ़ कर भाग लेते हैं। अगर बच्चा रोता है तो वह गोद में उसे लेकर खेलाते हैं। उसको खाना खिलाते हैं। कपड़े पहनाते हैं। 
 
रामजीत का कहना है कि बच्चा जब रोता है तो उनको पीड़ा होती है। वे अपनी जवानी में बहुत यकीन करते हैं। तीन किलो दूध के साथ आधा किलो मक्खन रोज खाते हैं। रामजीत जवानी में कुश्ती लड़ते थे और उनको यह भरोसा है कि वह बच्चों को जवान होते देख सकेंगे और मौत उनको छू नहीं सकती। उन्होंने एक अजीब बात यह कही थी कि उनको कोई काला सांप काट ले तभी वह मरेंगे।
 
 
उन्होंने पिछले साल बातों-बातों में मीडिया से कहा कि मुझे दस साल बाद देखने आना, मैं जैसा आज हूं, वैसा ही मिलूंगा। ऐसा उन्होंने दिसंबर 2010 में कहा था। उन्होंने अपने डाइट के बारे में कहा कि वह रोज गाय का दूध पीते हैं और खाने में हरी सब्जियां इस्तेमाल करते हैं। खेतों में जमकर पसीना बहाने की वजह से भी उनका शरीर आज तक स्वस्थ है। खरखौदा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तैनात डॉक्टर हरेन्द्र कहते हैं कि मेडिकल साइंस में ऐसे मामले बहुत कम हैं, जहां इस उम्र में जाकर कोई पुरुष पिता बना हो।
102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर


रामजीत राघव जब 2010 में पहले बच्चे के बाप बने थे तब भी इंटरनेशनल मीडिया ने उनको कवर किया था। डेलीमेल, मेट्रो और द सन जैसे  इंटरनेशनल वेबसाइट्स पर रामजीत के बारे में खबरें प्रमुखता से छपी थीं। उन्होंने उस साल सबसे वृद्ध पिता होने का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया था।
 
यह रिकॉर्ड उनसे पहले एक भारतीय किसान नानु राम जोगी के नाम था जो 90 साल की उम्र में 2007 में 21वें बच्चे के बाप बने थे।


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर






2012 में इसी महीने जब वह दूसरे बच्चे के बाप बने तो फिर से वह इंटरनेशनल मीडिया में छाए।
 
वेबसाइट इंडीपेंडेंट डॉट को डॉट यूके ने उनके बारे में लिखा कि नौ दशकों तक बैचलर रहने के बाद रामजीत ने दूसरे बच्चे को जन्म देकर अपना ही वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ा है।
 
वेबसाइट के अनुसार, रामजीत अपनी बीवी से 17 साल पहले हरियाणा में सोनीपत के खारखोदा में मिले थे। रामजीत का कहना है कि वह शराब से आजीवन दूर रहे, यही उनके सेक्स पावर का राज है।
 
रामजीत के बारे में इंटरनेशनल वेबसाइट मिरर डॉट को डॉट यूके ने लिखा है कि दूसरी बार रामजीत 96 साल की उम्र में दुनिया के ओल्डेस्ट डैड बनने में सफल हुए हैं। रामजीत की बीवी शकुंतला, जो उनसे उम्र में आधी है, ने इसी महीने दूसरे बच्चे को जन्म दिया। 
 
वेबसाइट के अनुसार, पड़ोसी उनसे जलते हैं और उनके सेक्स पावर का राज पूछते हैं। रामजीत दूसरे बच्चे को ईश्वर की कृपा मानते हैं। 'ईश्वर चाहते थे कि मुझे दूसरा बच्चा हो।'
 
2010 में पहले बच्चे के जन्म के बाद रामजीत ने कहा था कि उनको एक से ज्यादा बच्चे की ईच्छा नहीं है।
102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर

इंटरनेशनल वेबसाइट मिरर डॉट को डॉट यूके के अनुसार, रामजीत ने अपने बच्चों के बारे में बड़े सपने सजाए हैं। उसने कहा, 'मैं तो जिंदगी भर किसान ही रह गया लेकिन अपने दोनों बच्चों को मैं ऊंचे सरकारी पदों पर देखना चाहता हूं।'
 
दूसरे बच्चे के बारे में रामजीत ने कहा, 'अच्छा हुआ कि मुझे दूसरा बेटा हुआ। अगर दोनों बच्चों में एक जिंदा न रहा तो दूसरा तो उनके परिवार की देखभाल करने के लिए रहेगा।'
 
रामजीत ने बताया कि डॉक्टर्स उनके बाप बनने पर हंसते हैं लेकिन उन लोगों को इस बात पर आश्चर्य भी है। 
 
वेबसाइट मिरर डॉट को डॉट यूके ने लिखा है कि रामजीत अपनी बीवी शकुंतला से बरसात महीने की एक सुबह में मिले थे जब वह एक मजार के पास अकेली बैठी थी। रामजीत बताते हैं,'मैं उसकी मदद करना चाहता था। उसके परिवार में कोई नहीं था, ना ही उसको कोई जानने वाला था।' 
 
रामजीत शकुंतला को अपने घर ले आए और उसके बाद वह भी हमेशा के लिए रामजीत की हो गई। शकुंतला का कहना है कि उसके लिए रामजीत की उम्र कोई मायने नहीं रखती। वह उनको बिल्कुल भी बूढ़े नहीं लगते। 
 
रामजीत की पहली शादी तब हुई थी जब वह 24 साल के थे। लेकिन अगले ही साल उनकी बीवी की मौत हो गई। उसके बाद से वह बैचलर ही रहे जब तक कि शकुंतला नहीं मिली।

102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर

रामजीत के दूसरे बच्चे के पिता बनने के बारे में इंटरनेशनल वेबसाइट द सन ने लिखा है कि पिछली बार जब वह पहले बच्चे के बाप बने थे तो कहा था कि दूसरा बच्चा वह नहीं चाहते।
 
लेकिन दूसरे बच्चे के बाद रामजीत ने कहा कि दो बच्चों का बाप बनकर वह खुश हैं। 'दो बच्चों का बाप बनना मुश्किल है लेकिन मैं खुश हूं', रामजीत ने कहा।
 
वेबासाइट लिखता है कि रामजीत के पास खारखोदा में दो कमरे की झोपड़ी है और खेती के काम से उसका परिवार चलता है। 


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर
इंटरनेशनल वेबसाइट हफिंगटन पोस्ट ने लिखा है कि रामजीत को जिस उम्र में दादा-परदादा होना चाहिए था, उस उम्र में वह बाप बने हैं। पोस्ट के अनुसार, रामजीत ने मीडिया से कहा कि वह अपनी पूरी जिंदगी ब्रह्मचर्य का पालन करते रहे हैं। शकुंतला से मिलने के बाद उन्होंने परिवार बसाने की सोची और दो बच्चों के बाप बने। ईश्वर ने उनकी ईच्छा पूरी की। 
 
रामजीत के दूसरे बच्चे के पिता बनने के बारे में इंटरनेशनल वेबसाइट द सन ने लिखा है कि पिछली बार जब वह पहले बच्चे के बाप बने थे तो कहा था कि दूसरा बच्चा वह नहीं चाहते।
 
लेकिन दूसरे बच्चे के बाद रामजीत ने कहा कि दो बच्चों का बाप बनकर वह खुश हैं। 'दो बच्चों का बाप बनना मुश्किल है लेकिन मैं खुश हूं', रामजीत ने कहा।
 
वेबासाइट लिखता है कि रामजीत के पास खारखोदा में दो कमरे की झोपड़ी है और खेती के काम से उसका परिवार चलता है। 

102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर

फिंगटन पोस्ट के अनुसार, रामजीत आर्थिक कारणों से अब आगे और बच्चा नहीं चाहते। रामजीत ने कहा कि उनकी माली हालत अच्छी नहीं है इसलिए वह और बच्चा नहीं पाल सकते। 'मैं अपने दोनों बच्चों को खूब पढ़ाना चाहता हूं और उनकी जिंदगी की हर जरूरत पूरी करना चाहता हूं।'
 
फेमस इंटरनेशनल वेबसाइट डेलीमेल ने रामजीत के पिता बनने की खबर देते हुए लिखा है कि दो साल पहले विक्रमजीत के जन्म के बाद उन्होंने विश्व रिकॉर्ड बनाया था और दूसरी बार फिर से वह बाप बने हैं।
 
वेबसाइट ने रामजीत के हवाले से उनके लाइफ के बारे में लिखा है कि उनकी जिंदगी में जितनी भी लड़कियां आईं, उनमें से कोई भी जिंदा नहीं रहीं। जब रामजीत को शकुंतला मिली तो वह उनको घर ले आए। उनको योगा सिखाया और दोनों एक-दूसरे से प्यार करने लगे। उसके बाद दोनों ने शादी कर ली।


102 की उम्र में बने बाप के पास आया अमेरिका से लिफाफा, क्या था अंदर


sabhar : bhaskar.com











अश्मित से मेरा रिश्ता फेक नहीं था वीना मलिक



बिग बॉस से फेम पा चुकी पाकिस्तानी एक्ट्रेस वीना मलिक की पहली बॉलीवुड डेब्यू फिल्म 'दाल में कुछ काला है' फ्लॉप रही थी लेकिन बावजूद इसके वीना मलिक ने चर्चाओं में आना नहीं छोड़ा है और इसी का नतीजा है कि उन्हें फिल्मों के ऑफर भी आने लगे हैं।
वीना ने हाल ही में इस बात को स्वीकार किया कि वे वाकई अश्मित के साथ इन्वॉल्व हो गई थीं। वीना मलिक ने बिग बॉस के घर में अश्मित के साथ अपने संबंधों को लेकर कहा कि आपने जो कुछ भी देखा मुझे नहीं लगता कि वो फेंक था। मैं और अस्मित एक-दूसरे के अच्छे दोस्त थे, हम एक-दूसरे कि इज्जत करते थे, हां ये बात अलग है कि मैं अभी उनके टच में नहीं हूं। 
इतना ही नहीं वीना मलिक ने हाल ही इस बात का जिक्र किया कि वे बचपन से ही अपने आपको सेलिब्रिटी की तरह देखती थी। 
अब ये तो सोचने वाली बात है इतने लंबे समय बात अचानक वीना अपने लिए सफाई क्यों दे रही हैं, कहीं वीना फिर से कुछ नया तो करने नहीं जा रही, जिसकी दर्शकों को उम्मीद भी ना हो। खैर, ये तो वक्त ही बताएगा। sabhar : amarujala.com

पानी से धुलने वाला मोबाइल और कीबोर्ड



जल्द ही बाजार में ऐसा मोबाइल फोन, आइ-पैड और की-बोर्ड आने वाला है जिसे आप गंदा होने पर पानी से धो सकते हैं। शायद सुनने में ये आपको थोड़ा अजीब लगे, लेकिन रिसर्चरों ने इसे सच करने का दावा किया है। कीबोर्ड या मोबाइल के गंदा होने पर आपकी समस्या का समाधान जल्द ही अधिक यूजर फ्रेंडली इलेक्ट्रानिक उपकरणों के जरिए होने वाला है।

ये नए उपकरण ऐसे होंगे कि इन्हें आप रास्ते के लिए भी कैरी कर सकते हैं। इन उपकरणों को पानी से कोई नुकसान नहीं होगा। रिसर्चरों ने जेनरेशन-नेक्सट वाले इलेक्ट्रानिक उपकरण विकसित किए हैं। इन सभी उपकरणों को फोल्ड करके रास्ते के लिए कैरी भी किया जा सकता है। इसके साथ ही इन उपकरणों को जीरो पिक्‍सल बार्डर की परत देकर वाशेबल बनाया गया है।

इन गैजेट्स की स्क्रीन पर इलेक्ट्रोफ्लूडिक इमेजिंग फिल्म का इस्तेमाल किया गया है। जिससे इन्हें पानी से साफ करने पर इनमें कोई खराबी नहीं आएगी। शोधकर्ताओं का दावा है ये गैजेट्स सूर्य की रोशनी में खुद ही चार्ज हो जाएंगे, जिससे इनके इस्तेमाल में बिजली की खपत बहुत कम होगी। इस तरह के उपकरणों में वायरलेस कनेक्शन पोर्ट दी गई है।

शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा कि अब आपका मोबाइल या आइ-पैड हाथ से कही गिर जाएं इस पर चढ़ी उच्च स्तरीय लचीली केसिंग इसकी स्क्रीन को नुकसान नहीं पहुंचने देगी और इसे आप धोकर भी साफ कर सकते हैं। इस काम को अंजाम देने में इलेक्ट्रोफ्लूडिक इमेजिंग फिल्म एक क्रांतिकारी खोज साबित हुई। ये एक पारदर्शी सफेद फिल्म है जिसमें पारगामी इलेक्ट्रोड की एक पतली परत चढ़ी हुई है।

तो अब आप जल्द ही बाजार में ग्रीन आइ-पैड, मोबाइल फोन और ई-रीडर देखने के तैयार रहिए, इनमें भारी बैटरी का बोझ नहीं होगा।

30 साल की उम्र में भी कम हो सकती है मेमोरी




आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि ज्यादा उम्र के लोग ही भूलने की बीमारी से परेशान रहते हैं लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि केवल बुजुर्ग ही नहीं बल्कि 30 वर्ष की उम्र के लोगों को भी इस समस्या से दो-चार होना पड़ता है। ब्रिटेन में 50 साल की उम्र के करीब 1000 लोगों पर किए गए एक सर्वेक्षण में यह चौंकाने वाला खुलासा किया गया है। 

इस सर्वेक्षण के अनुसार, आमतौर पर औसतन 50 साल की उम्र में लोगों को चीजें भूलना शुरू हो जाती हैं। मगर अधिकतर लोगों ने कहा कि भूलने की बीमारी उन्हें कम उम्र में ही लग गई थी। 

शोधकर्ताओं के अनुसार, 50 की उम्र में लोगों को अपने करीबियों तक के नाम याद रखने में मुश्किल पेश आती है। पांच में से दो लोगों ने स्वीकार किया कि उन्हें उन लोगों के नाम भी याद नहीं रहते जिन्हें वे सालों से जानते हैं। 

सर्वे के अनुसार कई लोग तो डॉक्टर से लिया गया अपाइंटमेंट तक भूल जाते हैं। वहीं दस में एक व्यक्ति ने कहा कि 40 साल की उम्र में ही उन्हें चीजें भूलने की बीमारी हो गई थी। वहीं छह प्रतिशत लोगों ने 30 साल की उम्र से ही इस बीमारी से पीड़ित होने की बात कही। sabhar amarujala.com

ऑटो-टैक्सी का किराया बढ़ा तो न्यूड हो गई रीमा




ग्लैमर इंडस्ट्री में छोटी-छोटी पर मॉडल्‍स और एक्ट्रेस का न्यूड होने का एक ट्रेंड बन गया है। आए दिन कोई ना कोई मॉडल चर्चा में आने के लिए इस फंडे को अपना रही है। पूनम पांडे, गहना, वीना मलिक या शर्लिन चोपडा जैसी कितनी ही एक्ट्रेस है जो आए दिन सोशल नेटवर्किंग साइट्स ट्विटर और फेसबुक पर अपनी न्यूड फोटोज अपलोड करती रहती हैं ताकि उनकी पॉपलै‌रिटी बनी रहे, या फिर किसी भी इश्यू को भुनाने के लिए न्यूड होने से गुरेज नहीं करती।

इसी फेहरिस्त में मॉडल रीमा शर्मा का नाम भी जुड़ गया है। ‌बीते दिनों मुंबई में ऑटो और टैक्सी का किराया बढ़ने का विरोध करने के लिए मॉडल रीमा शर्मा ने न्यूड हो खूब चर्चा बटोरी। रीमा ने एक न्यूड फोटोशूट करवाया जिसमें उन्हें अपनी बैक साइड पर 'मीटर डाउन स्टॉप फ्रॉड' लिखवाया। रीमा को इस न्यूड फोटोशूट से कोई दिक्कत नहीं है।

गौरतलब है कि रीमा साउथ की कई फिल्मों में आ चुकी है। हाल ही में रीमा ने एक तमिल फिल्म भी साइन की है। वैसे आपको बता दें बॉलीवुड में रीमा को कोई नहीं पहचानता, इसीलिए रीमा ने अपने इस फोटोशूट की तस्वीरें ट्विटर पर अपलोड की। रीमा ने अपनी सफाई में कहा कि ये फोटोशूट सोशल कोस्ट के लिए था और वैसे भी मुंबई में लगभग 30 फीसदी टैक्सियों के मीटर खराब हैं तो वहीं 40 फीसदी ऑटो और रिक्‍शा वाले पुराने मीटर का उपयोग कर रहे हैं।
 
फिलहाल रीमा तो यही चाहती हैं कि इससे उनकी फैन फोलोइंग बने और फिर उन्हें बॉलीवुड में एंट्री करने को मिले।अब देखना होगा कि रीमा का ये कारनामा उनके काम आता है।   sabhar : amarujala.com

सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर


सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर

पुणे। यह दूध कुछ खास है। तभी तो इसकी कीमत 75 रुपए प्रति लीटर है। इसके ग्राहकों में शामिल हैं पुणे और मुंबई की 4 हजार से ज्यादा नामी हस्तियां। 
 
 
मसलन मुकेश अंबानी, सचिन तेंडुलकर, रितिक रोशन, शिल्पा शेट्टी, आदि गोदरेज, गरवारे, शबाना आजमी आदि। पूरी तरह कम्प्यूटराइज्ड दूध उत्पादन की प्रक्रिया में इंसानी हाथों का स्पर्श कतई नहीं है। सब तरह के रसायनों से मुक्त ऑर्गनिक दूध।
 
 
यह दूध गायों का है और गायों का रुतबा भी ‘वीआईपी’ से कम नहीं है। खानपान और रहन-सहन सब कुछ आलीशान। भीमाशंकर के पास स्थित 35 करोड़ रुपए लागत के इस फार्म की हर गाय के लिए कॉयरफोम का केरल से मंगाया रबर-कोटिंग वाला खास गद्दा है। 
 
 
हरेक की कीमत सात हजार रुपए। खाने में अल्फा-अल्फा घास, ओट्स, कॉटनसीड्स जैसी हाईप्रोटीन डाइट का बुफे। रोज नहाने के लिए मल्टीजेट शॉवर। 
 
 
वे 35 एकड़ के फॉर्म में खुला घूमती हैं। उनके रहने के लिए अलग जगह है, खाने की अलग और सोने के लिए एकदम अलग। डेयरी के अध्यक्ष देवेंद्र शहा कहते हैं, ‘हमारे उपभोक्ता क्वालिटी के प्रति बेहद जागरूक हैं। 
सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर
शिल्पा शेट्टी जैसे कई उपभोक्ताओं ने आकर न सिर्फ उत्पादन देखा बल्कि दूध उन तक पहुंचेगा कैसे, इसका पूरा प्रजेंटेशन देखकर ही हमसे जुड़े। गोवंश की सेहत एक अहम मसला है। तयशुदा वक्त पर टीके लगते हैं। किसी गलती की गुंजाइश न हो इसलिए यह काम किसी कर्मचारी के भरोसे नहीं छोड़ा गया है। 

सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर
गायों के कान में लगी एक माइक्रोचिप में इसका रिकॉर्ड है। टीके का वक्त होने  पर यह कम्प्यूटर को याद दिलाती है। अगर फिर भी टीका न लगे तो गाय का दूध निकालना नामुमकिन हो जाता है, क्योंकि दूध भी इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम के जरिए निकलता है दूध निकालने से पहले हर गाय का एक ट्रांसपोंडर से गुजरना अनिवार्य है। 









सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर
बीमार गाय को यह मशीन खुद ही कतार से बाहर कर देती है। रोज तीन बार में करीब 40-45 लीटर दूध देने वाली इन गायों के शरीर में मिनरल्स की कमी भी रोज पूरी की जाती है।  जर्मनी और स्विटजरलैंड से कुछ साल पहले कर्नाटक और तमिलनाडु में होलस्टिन फ्रिझन वंश की दस हजार गाएं आई थीं। इसी वंश की फस्र्ट ब्रीड इस डेयरी में लाई गई। 
दूध उत्पादन को बेहतर बनाने वाली हर तकनीक के प्रति डेयरी के कर्ता-धर्ता शुरू से सजग हैं। मसलन, अमेरिका-कनाडा के सांडों का गौवंश को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल करना।

सिर्फ इनके गाय का दूध पीते हैं मुकेश अंबानी और सचिन तेंडुलकर
sabhar : bhaskar.com


शादीशुदा पुरुष किशमिश के साथ करें इस 1 चीज का सेवन, होते हैं ये जबर्दस्त 6 फायदे

किशमिश के फायदे के बारे में आपने पहले भी जरूर पढ़ा होगा लेकिन यहां पर वैज्ञानिक रिसर्च पर आधारित कुछ ऐसे बेहतरीन फैक्ट बताए जा रहे हैं जो श...