गुरुवार, 12 जनवरी 2012

पहली बार छह भ्रूणों से पैदा हुए बंदर




वैज्ञानिकों ने पहली बार कई भ्रूणों को मिलाकर बंदर बनाए. अमेरिकी वैज्ञानिकों के मुताबिक बंदरों को छह भ्रूणों की कोशिकाओं से बनाया गया है. खोज मोटापे, दिल की बीमारियों और डायबिटीज से लड़ने में मददगार साबित हो सकती है.

वैज्ञानिकों ने शुरुआती चरण में ही एक बंदरिया में मिश्रित भ्रूण कोशिकाएं डाल दीं. इस चरण को टोटीपोटेंट कहा जाता है. टोटीपोटेंट के दौरान भ्रूण की कोशिशकाएं एक शरीर के रूप में भी विकसित हो सकती है और अन्य जीवित ऊतकों में भी बदल सकती हैं. इस तरह तीन स्वस्थ बंदर के बच्चे पैदा हुए. इन नर बंदरों के नाम रोकु, हेक्स और काइमेरो रखे गए हैं.
प्रयोग में शामिल करने वाले शुखरात मितालिपोव कहते हैं, "कोशिशकाएं निष्क्रिय नहीं होती है. वह साथ में रहती हैं और ऊतक बनाने या अंग बनाने के काम में लग जाती हैं."
चूहों पर इस तरह के प्रयोग पहले हो चुके हैं. 'नॉक आउट' नाम के चूहों को वैज्ञानिकों ने इसी तरह भ्रूण प्रत्यारोपण के जरिए बनाया. मितालिपोव कहते हैं, "हम हर चीज के लिए चूहों को आधार नहीं बना सकते हैं. अगर हम स्टेम सेल थेरेपी को प्रयोगशाला से निकाल कर क्लीनिकों तक ले जाना चाहते है, चूहे से इंसानों तक ले जाना चाहते हैं तो हमें यह समझना होगा कि वानरों की कोशिशकाएं क्या कर सकती है और क्या नहीं."
वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि कोशिकाओं का यह व्यवहार भविष्य में मोटापे, दिल की बीमारी, मधुमेह और पार्किंसन्स जैसी बीमारियों से लड़ने के काम आएगा.
रिपोर्ट: एपी/ओ सिंह
संपादन: एम गोपालकृष्णन
 sabhar :http://www.dw-world.de

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

शादीशुदा पुरुष किशमिश के साथ करें इस 1 चीज का सेवन, होते हैं ये जबर्दस्त 6 फायदे

किशमिश के फायदे के बारे में आपने पहले भी जरूर पढ़ा होगा लेकिन यहां पर वैज्ञानिक रिसर्च पर आधारित कुछ ऐसे बेहतरीन फैक्ट बताए जा रहे हैं जो श...