Loading...

मंगलवार, 3 जनवरी 2012

दीवार फांदकर गर्ल्स हॉस्टल में घुसा इंजीनियरिंग का छात्र लेकिन...!

0








जोधपुर.नववर्ष के स्वागत की रात 31 दिसंबर को एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज का एक छात्र एक गर्ल्स हॉस्टल की दीवार फांद कर अंदर कूद गया और एक कमरे में घुस गया। हॉस्टल की एक छात्रा की शिकायत पर चीफ वार्डन डॉ. एसएस गहलोत हॉस्टल पहुंचे और छात्र को रूम से बाहर निकाला। उस समय रूम में उसके साथ चार छात्राएं मौजूद थीं।

कॉलेज के डीन प्रो. डीजीएम पुरोहित ने बताया कि इस मामले में हॉस्टल वार्डन की ओर से लिखित में शिकायत आने पर ही कार्रवाई की जा सकेगी। हॉस्टल वार्डन के मंगलवार को छुट्टी से लौटने पर कार्रवाई शुरू होने की संभावना है।

शनिवार की रात एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज का एक छात्र कॉलेज के एयरफोर्स रोड स्थित एक गर्ल्स हॉस्टल की दीवार फांद कर हॉस्टल में घुस गया। वह छुपते-छुपाते हॉस्टल के एक कमरे में पहुंच गया। इस हॉस्टल में फर्स्ट ईयर में पढ़ने वाली छात्राएं रहती हैं।

एक अन्य कमरे में रहने वाली छात्रा को जब इस बात का पता चला तो वह डर गई और उसने चीफ वार्डन डॉ. एसएस गहलोत को फोन कर दिया। प्रो. गहलोत रात को हॉस्टल पहुंचे और चौकीदार के साथ जाकर कमरा खुलवाया। रूम में उस छात्र के साथ हॉस्टल की चार छात्राएं मौजूद थीं। चीफ वार्डन ने पुलिस को सूचना दी और उस लड़के को पुलिस को सौंप दिया गया।

छुट्टी पर थीं हॉस्टल वार्डन

कॉलेज के डीन प्रो. डीजीएम पुरोहित ने बताया कि इस हॉस्टल की वार्डन अंशु अग्रवाल शीतकालीन अवकाश के कारण गुड़गांव गई हुई थीं। वे मंगलवार को लौटेंगी तभी कार्रवाई हो सकेगी। अंशु अग्रवाल के पास इस हॉस्टल के अलावा दो अन्य हॉस्टल की भी जिम्मेदारी है।

पहले चेताया था भास्कर ने 

दैनिक भास्कर के 26 सितंबर 2011 के अंक में इंजीनियरिंग हॉस्टलों की स्थिति का खुलासा किया गया था। इसमें बताया गया था कि कॉलेज के तीन छात्रावासों की जिम्मेदारी एक महिला शिक्षक के पास है। ये हॉस्टल परस्पर आधा किलोमीटर से एक किलोमीटर दूर हैं। इसके बावजूद विश्वविद्यालय प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया।

वार्डन शिकायत करेंगी तो होगी कार्रवाई

"चीफ वार्डन प्रो. एसएस गहलोत ने रविवार को सुबह सूचना दी थी कि कॉलेज का प्रथम वर्ष का एक छात्र एक गल्र्स हॉस्टल में दीवार फांद कर घुस गया। उसे कमरे से बाहर निकाल कर पुलिस के हवाले कर दिया गया। हॉस्टल वार्डन के लिखित में शिकायत देने के बाद दोषी छात्र-छात्राओं के खिलाफ कार्रवाई होगी।"

प्रो. डीजीएम पुरोहित, डीन, एमबीएम इंजीनियरिंग कॉलेज

लिखित में शिकायत देंगे

"इस मामले की जानकारी चीफ प्रॉक्टर ने दे दी है। गुड़गांव से जोधपुर आते ही इस मामले में डीन प्रो. डीजीएम पुरोहित को लिखित में शिकायत करूंगी।"

अंशु अग्रवाल, हॉस्टल वार्डन sabhar : bhaskar.com
sa

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting