शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2011

अवसर का लाभ उठाकर भ्रष्‍टाचार से लड़ें: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि भ्रष्टाचार रोकने की प्रक्रिया विकसित करने का काम बहुत आवश्यक हो गया है और देश को इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए.
मनमोहन सिंह ने कहा, "हम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में दूरगामी बदलावों के मोड़ पर खड़े हैं. अन्ना हजारे द्वारा शुरू किए गए आंदोलन ने भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई को शीर्ष एजेंडा बना दिया है. लोकपाल सरकार का शीर्ष एजेंडा है."
केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और राज्यों के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के द्विवार्षिक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, "सरकार नागरिक समाज और गैर सरकारी संगठनों द्वारा भ्रष्टाचार से निपटने के तरीकों पर उपलब्ध कराई गई जानकारी का स्वागत करती है."
सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून में बदलाव की सरकार की योजना को लेकर नागरिक समाज की आलोचनाओं का सामना करने वाले सिंह ने कहा कि सरकारी अधिकारियों को आरटीआई आवेदनों पर यथासम्भव अधिक से अधिक सूचनाएं मुहैया करानी चाहिए.
मनमोहन सिंह ने कहा, "सार्वजनिक जीवन में पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित कराने के लिए आरटीआई एक कारगर औजार है. एक राष्ट्र के रूप में हमें इस क्षण का हरहाल में लाभ लेना चाहिए."
सिंह ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में पारदर्शिता सुनिश्चित कराने और भ्रष्ट लोगों को दंडित करने का काम जितना आज आवश्यक बन गया है, उतना आवश्यक कभी नहीं था. उन्होंने कहा, "एक राष्ट्र के रूप में हमें इस अवसर का लाभ उठाना चाहिए."
भ्रष्टाचार रोकने के उपायों पर चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकारी खरीद के लिए होने वाले करारों में पारदर्शिता सुनिश्चित कराने के लिए सरकार संसद के शीतकालीन सत्र में एक विधेयक पेश करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार निजी क्षेत्र में रिश्वत को दंडात्मक बनाने के लिए कानून में संशोधन पर विचार कर रही है.
प्रधानमंत्री के अनुसार, भ्रष्टाचार के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र संकल्प, जून 2001 को भारत की मंजूरी से सरकार के भ्रष्टाचार निरोधी प्रयासों को मजबूती मिलेगी और सीमा पार भ्रष्टाचार के मामलों में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग प्राप्त होगा.
मनमोहन सिंह ने कहा कि संकल्प की जरूरतों की पूर्ति के लिए सरकार ने विदेशी सरकारी अधिकारियों की रिश्वतखोरी को एक अपराध बनाने के लिए एक विधेयक पेश किया है.
प्रधानमंत्री ने कहा कि खुलासा करने वालों को सुरक्षा मुहैया कराने वाले विधेयक के अलावा न्यायिक मानक एवं जवाबदेही विधेयक भी संसद में पेश किया गया है. प्रधानमंत्री ने आशा जाहिर की कि आने वाले महीनों में एक मजबूत और प्रभावी लोकपाल स्थापित किया जाएगा.
उन्होंने कहा, "लोकपाल का आकार चाहे जो भी हो, सीबीआई एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाती रहेगी." ज्ञात हो कि अन्ना पक्ष ने सीबीआई की भ्रष्टाचार निरोधी शाखा को लोकपाल के अधीन लाने की मांग की है.



स्रोत :http://aajtak.intoday.in

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

ऐशोआराम के लिए जिस्म बेचती हैं ये छात्राएं


पुणे (टीएनएन) बड़े शहरों की चकाचौंध और आधुनिक जीवन शैली हमारी युवा पीढ़ी को किस गर्त में ले जा रही है उसकी भयावहता का अंदाजा शायद अभी नहीं लगाया जा रहा है। शहरों में बड़े पैमाने पर कॉलेज जाने वाली लड़कियां बेहतर और आरामपरस्त जिंदगी जीने के लिए अपने शरीर को ही दांव पर लगा रही हैं।
पुणे में हर साल पुलिस वेश्यावृत्ति के लगभग 180 मामले दर्ज करती है लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि पिछले 2 सालों में पुलिस ने प्रिवेंशन ऑफ इमॉरल ट्रैफिकिंग ऐक्ट 1956 के तहत 4 छात्राओं को गिरफ्तार किया। इस साल 2 केस दर्ज करने वाले पुलिस इंस्पेक्टर भानु प्रताप बार्गे ने बताया कि फरवरी महीने में शहर के एक होटल में छापे के दौरान पकड़ी गई लड़कियों में एक लड़की मेडिकल स्टूडंट थी और वह किसी छोटे शहर से आई थी। इसी तरह मार्च में डाले गए छापे के दौरान पकड़ी गई लड़कियों में 2 कॉलेज जाने वाली लड़कियां थीं। यह वह आंकड़े हैं जो रेकॉर्ड में दर्ज है असलियत में यह संख्या इससे कई गुना ज्यादा है।
पिछले साल भी पुलिस की सोशल सिक्युरिटी सेल ने सेक्स रैकेट चलाने वाली 2 लड़कियों को पकड़ा था जो कॉलेज स्टूडंट थीं और उन्होंने यह काम महज इसलिए अपनाया था क्योंकि वह अच्छे कपड़ों सेलफोन और महंगे होटलों में खाने की शौकीन थीं।
बार्गे ने कहा कि कॉलेज स्टूडंट्स लड़के और लड़कियां दोनों ही ऑरकुट कम्युनिटी के जरिए यह पेशा चलाते हैं। पुलिस भी ऐसी घटनाओं से स्तब्ध है।
सूत्रों के मुताबिक बहुत सारी लड़कियां अपने रूटीन खर्चों और महंगे शौक को पूरा करने के लिए ऐसे काम करने को तैयार हो जाती हैं।  स्रोत : नवभारत टाईम्स . काम 

पति ने कोठे पर पहुंचाया, सेक्स वर्कर्स ने बचाया




मुंबई ।। अपनी नव विवाहिता पत्नी को धोखे से वेश्यालय में बेचने की कोशिश कर रहे एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पति की कुटिल चालों से अनजान पत्नी को वहां की कॉल गर्ल्स ने ही बचाया।

मिली जानकारी के मुताबिक 24 वर्षीय ललन अकरम शेख मुंबई के रेडलाइट एरिया कमाठीपुरा में अपनी पत्नी को बेचने पहुंचा। उसने मुर्शिदाबाद (बंगाल) के अपने गांव में दो महीने पहले ही शादी की थी। उसने लड़की के घर वालों को झूठ बताया था कि वह मुंबई में एक जूलरी शॉप में काम करता है, 12000 रुपए महीने कमाता है और जल्द ही उसका प्रमोशन भी होने वाला है।

गांव से मुंबई आई उसकी युवा पत्नी को जरा भी एहसास नहीं था कि पति उसके साथ कैसा घिनौना खेल खेलने वाला है। जब शेख वेश्यालय मालिकों से सौदेबाजी कर रहा था, तब आसपास खड़ी सेक्स वर्कर्स को शक हो गया। उन लोगों ने लड़की का मासूम चेहरा देखा और उन्हें समझ में आ गया कि पति इस लड़की को देह व्यापार के दलदल में धकेलने की तैयारी कर चुका है। इन सेक्स वर्कर्स ने पुलिस कंट्रोल को फोन कर दिया।

इस सूचना के आधार पर पुलिस तुरंत सक्रिय हो गई। शेख को गिरफ्तार कर लिया गया। नागपाड़ा पुलिस स्टेशन के सीनियर इंस्पेक्टर संजय कदम ने बताया कि शेख की पत्नी हिन्दी और अंग्रेजी नहीं समझ पाती। उसे पुलिस उसके गांव वापस भेजने की सोच रही है। जबकि, शेख के बारे में यह पता करने की कोशिश हो रही है कि क्या उसने पहले भी कुछ महिलाओं को बेचा है।

जब इस बारे में पुलिस बुलाकर उस महिला को बचाने वाली सेक्स वर्कर्स से यह पूछा गया कि उन्होंने क्यों उस महिला को इस धंधे में आने से रोका, तो नाम न छापने के अनुरोध के साथ उन्होंने बताया कि वह जानती हैं इस दलदल में जीना कैसे मौत से भी बदतर हो जाता है। ऐसे में वह नहीं चाहती थीं कि उनकी तरह कोई और मासूम महिला जबरन यहां के जुल्मों का शिकार हो।
 स्रोत :   नवभारत टाईम्स.काम 

मंगलवार, 18 अक्तूबर 2011

दंगा पीड़ितों के लिए लडाई जारी रहेगी : संजीव भट्ट

 गुजरात के  निलंबित  पुलिस  अधिकारी  श्री संजीव भट्ट  ने  सोमवार को  जेल से  रिहाई  के बाद  कहा की  वह सरकार के द्वारा प्रवोजित दंगो के पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए  अपना संघर्ष  जारी रखेंगे  उन्होने जेल में बिताये गए समय को विश्राम करार दिया | उन्होंने अपना समर्थन  करने वाले लोगो को धन्यवाद  दिया |

सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

Worldagainstcorruptions.com

Support for www.worldagainstcorruptions.com 

सलमान खुर्शीद मजबूत मुसलमान नेता के रूप में उभरे





केन्द्रिय कानून मंत्री श्री सलमान  खुर्शीद  की पकड़  यू पी  के मुसलमानों  पर मजबूत  हो गयी | अभी अन्ना हजारे प्रकरण में जिस  कुशलता से  पार्टी का बचाव किया जिससे पार्टी  अपने को सुरछित  महसूस करने लगी है | मुसलमान अब ये मानने लगे है की  उन्हें  विकास के तरफ आगे बड़ाने में श्री खुर्शीद कामयाब होंगे , मुसलिम समुदाय  में उन्हें उनन्त शील नेता के रूप में जाना जा रहा है | अन्ना हजारे प्रकरण के बाद  भी  मुसलिमों की  पहली पसंद  कांग्रेस  है | श्री खुर्शीद की छवि  हिन्दुओ में भी ईमानदार नेता की है | वार्ता  डाट  टी वी  की आंतरिक सर्वेछ्न में  ये बात सामने आयी है | मुसलमानों की दूसरी पसंद समाजवादी पार्टी है | मुसलमानों का  बी यस पी से मोह भंग हो चुका है |

शादीशुदा पुरुष किशमिश के साथ करें इस 1 चीज का सेवन, होते हैं ये जबर्दस्त 6 फायदे

किशमिश के फायदे के बारे में आपने पहले भी जरूर पढ़ा होगा लेकिन यहां पर वैज्ञानिक रिसर्च पर आधारित कुछ ऐसे बेहतरीन फैक्ट बताए जा रहे हैं जो श...