गुरुवार, 8 दिसंबर 2011

पति की दरिंदगी कर देती है आत्मा तार-तार, कैसे करें औलाद को दुलार?






हांगकांग. ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने खुलासा किया कि 40 प्रतिशत महिलाएं जो बच्चे को जन्म देने के बाद अवसादग्रस्त हो जाती हैं इसके पीछे उनके पतियों द्वारा उनको दी जाने वाली शारीरिक और मानसिक प्रताडना जिम्मेदार होती है।

ऑस्ट्रेलिया के विक्टोरिया में मडरेक बच्चों के अनुसंधान संस्थान की हन्ना वूलहाउस ने कहा, बच्चों को जन्म देने के बाद अवसादग्रस्त होने वाली महिलाओं का इलाज करने वाले स्वास्थ्य विशेषग्यों को ध्यान रखना चाहिए कि ऐसी महिलाओं के अवसादग्रस्त होने के पीछे उनके पतियों द्वारा उनके साथ की जाने वाली मानसिक और शारीरिक हिंसा भी जिम्मेदार हो सकती है।

वूलहाउस ने कहा कि ऐसी समस्याओं से जूझ रहे दम्पतियों को सलाह देकर या प्रताड़ित महिला को शरण देकर उनका इलाज किया जा सकता है।

इस खुलासे से पहले वूलहाउस ने पहली बार मां बनी 1,305 महिलाओं पर अपने साथियों के साथ अध्ययन किया और पाया कि बच्चे को जन्म देने के बारह महीने बाद लगभग 16 प्रतिशत महिलाओं में अवसाद की शिकायत पायी गयी।

अनुसंधान से यह भी स्पष्ट हुआ कि जिन लगभग 40 प्रतिशत महिलाओं में अवसाद के लक्षण दिखायी दिये उनके साथ उनके पतियों ने हिंसा की थी।

अध्ययन से यह भी पता चला कि अधिकतर महिलाओं में बच्चे को जन्म देने के छह माह बीत जाने के बाद अवसाद के लक्षण नजर आये। sabhar : bhaskar.com

 
 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

एक तस्वीर ने बदली जिंदगी / 4 साल पहले सड़क पर भीख मांगने वाली रीता आज हैं सेलिब्रिटी, इंस्टाग्राम पर हैं एक लाख से अधिक फॉलोवर

2016 में लुकबान के एक फेस्टिवल में शामिल होने पहुंचे फोटोग्राफर टोफर क्वींटो रीता की खूबसूरती से प्रभावित हुए टोफर ने तस्वीर खींचकर सोशल म...