Loading...

गुरुवार, 1 दिसंबर 2011

दो लाख न देने पर दी थी रिपोर्ट लिखवाने की धमकी : स्वामी चिन्मयानंद

0

Swami Chinmayanand Sarswati



 पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री  व मुमुक्षु आश्रम  के मुख्या अधिष्ठाता  स्वामी  चिन्मयानंद  ने  कहा है  कि उनका सार्वजनिक जीवन संसद से लेकर  अद्यात्मिक और सांस्कृतिक  क्षेत्र  से गुजरा है  और  उनके  लाखो लोग  साक्षी है |  यूपी  व उत्तरांचल में भाजपा में  उनकी विशिष्ट भूमिका रहती है | इन दोनों राज्यों में  दो माह बाद चुनाव होने वाले है | इसलिए  उनके ऊपर जो आरोप लगाये जा रहे है  उससे  साजिश कि बू  आ रही है | उन्होंने  कहा कि  कोमल गुप्ता ( साध्वी चिदार्पिता )  जब हरिद्वार  में मेरे पास  अपनी माँ के साथ आयी थी  तब  वह  किसी काल सेंटर में  नौकरी  करती  थी | माँ नहीं चाहती थी  कि उनकी बेटी  वहां नौकरी करे | कोमल  कि माँ के आग्रह पर  उसे रख लिया  और  अपने संसदीय कार्यालय पर काम दिया  |  स्वामी  जी  ने कहा कि  बंधक बनाने  का आरोप इसलिए गलत है  कि २००३ से २००९ तक उसने यल यल बी , बी एड , एमएड  , कि  शिक्षा  प्राप्त की  आश्रम के मुमुक्षु  विद्यापीठ  में प्रधानाचार्य बनी | इसके अलावा विभिन्य  सामाजिक और सांस्कृत कार्यक्रमों  में अकेली जाया करती थी  |  कहा  कि उसपर वह बेटी कि तरह विश्वास करते थे , किन्तु वह  कए तथ्य  छिपा  कर  गुमराह भी करती रही | उनकी अनुपस्थिति में  कीमती सोने चादी के बरतन  व पूजा के पात्र  आभूषण आश्रम छोड़ने से पहले  एक्सिस  बैंक के  लाकर में  रख दिए  उन्होंने कहा कि पैसा न  देने पर  कोमल कथित पत्रकार पति  ने  उनपर  चरित्र को  लेकर एक  बेबसाईट पर एक काल्पनिक घृणित  कहानी भी लिखी  उन्होंने कहा  कि दूध का दूध  और  पानी का पानी हो जाएगा  जब जांच रिपोर्ट  सामने आएगी | sabhar : amar ujala dainik

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting