Loading...

मंगलवार, 15 नवंबर 2011

उड़ती रहेगी किं‍गफिशर: सिकॉम देगा 400 करोड़, सरकार पर बरसे विजय माल्‍या

0








मुंबई. कर्ज में डूबी किंगफिशर एयरलाइंस को संकट से उबारने की कोशिश तेज हो गई है। चर्चा है कि महाराष्‍ट्र स्थित एक गैर बैंकिंग संस्‍थान सिकॉम ने किंगफिशर को 400 करोड़ रुपये का कर्ज देने का वादा किया है। सिकॉम ग्रुप में महाराष्‍ट्र सरकार की भी हिस्‍सेदारी है। 

 

कपंनी के चेयरमैन विजय माल्‍या ने मंगलवार को एक प्रेस कांफ्रेंस में एयरलाइंस को मौजूदा संकट से उबारने के लिए उठाए जा रहे कदमों का ऐलान किया। माल्‍या ने यह कबूल किया कि कुछ निजी कंपनियों ने मदद की पेशकश की है लेकिन उन्‍होंने किसी का नाम लेने से इनकार कर दिया। उन्‍होंने यह भी नहीं बताया कि एयरलाइंस को मौजूदा संकट से उबारने के लिए कहां से पैसा आएगा।

 

उन्‍होंने इस बात से पूरी तरह इनकार किया कि उन्‍होंने अपने एयरलाइंस को खस्‍ताहालत से उबारने के लिए सरकार से कभी बेलआउट पैकेज की मांग की। माल्‍या ने किंगफिशर के मौजूदा हालात के लिए ईंधन की बढ़ती कीमतों और बैंकों की ब्‍याज दरों में बेतहाशा बढ़ोतरी को जिम्‍मेदार ठहराया। उन्‍होंने कहा, ‘उड़ानों को रद्द करने का फैसला पूरी तरह व्‍यवसायिक था। हम घाटे वाले रुटों पर विमानों की उड़ान जारी नहीं रख सकते। किंगफिशर को संकट से उबारने की कोशिश चल रही है।’

 

 

माल्‍या ने कहा, 'भारत में विमानन सेवा क्षेत्र का भविष्‍य उज्‍ज्‍वल है। हालांकि यह विमानों की सेवा सस्‍ती नहीं है। हमें भारत की आर्थिक तरक्‍की पर भरोसा है। अर्थव्‍यवस्‍था बढ़ेगी तो छोटी कंपनियों के लोग भी हवाई यात्रा करेंगे। सिर्फ किंगफिशर, जेट एयरवेज और एयर इंडिया  ही ज्‍यादा किराए वाले बाजार में हैं। 2008 के अलावा कभी ईंधन की कीमत इतनी नहीं रही। राज्‍य सरकार को टैक्‍स से जबरदस्‍त फायदा हो रहा है। राज्‍य सरकारों को सेल्‍स टैक्‍स से उगाही इतनी अधिक कभी नहीं रही। हम चाहते हैं कि टैक्‍स में कटौती हो। ब्‍याज दरें बढ़ने से मुश्किल बढ़ी है। ईंधन पर टैक्‍स सुधार की जरूरत है। विदेशी प्रत्‍यक्ष निवेश (एफडीआई) के पक्ष में हूं। विदेशी एयरलाइंस से निवेश मिलना चाहिए। एक एयरपोर्ट में 100 फीसदी एफडीआई है। मुझे उम्‍मीद है कि सरकार इस पर गंभीरता से विचार करेगी।

 

मैंने सरकार से बेलआउट पैकेज नहीं मांगा और नहीं कभी मांगूगा। मैंने टैक्‍सपेयर का एक पैसा नहीं मांगा। हमने बैंकों से अतिरिक्‍त पूंजी की मांग की है। मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का शु‍क्रगुजार हूं जिन्‍होंने इस मामले में दखल दिया। ऐसा कहा जा रहा है कि हमें ईंधन मिलना ही बंद हो जाएगा जबकि हमनें एचपीसीएल और इंडियन ऑयल का पूरा बकाया चुका दिया है। किंगफिशर रेड फायदे में नहीं था इसलिए हमने उससे हटने का फैसला किया। मैं एयरलाइंस के शेयरधारकों के प्रति जिम्‍मेदार हूं। लेकिन घाटे के रूट पर चलना हमारी राष्‍ट्रीय जिम्‍मेदारी नहीं है। हमने किसी कर्मचारी को नहीं निकाला है। हमने बड़ी तादाद में कर्मचारियों को नहीं निकाला है।'  

 

 

इस बीच, एयरलाइंस का घाटा बढ़ता जा रहा है और कंपनी को कई उड़ानें रद्द करनी पड़ रही हैं। किंगफिशर ने मंगलवार को अपने तिमाही नतीजे घोषित कर दिए हैं जिसके मुताबिक कंपनी को दूसरी तिमाही में 469 करोड़ रुपए का शुद्ध घाटा हुआ है। यह घाटा पिछले साल के मुकाबले 103% ज्यादा है, हालांकि कंपनी की बिक्री 10% बढ़कर 1528 करोड़ रुपए हो गई है। कंपनी के मुताबिक उसके घाटे में सबसे बड़ा योगदान ईंधन कीमतों का है। कंपनी का कहना है कि पिछले साल के मुकाबले उसका ईंधन बिल 70% बढ़ गया है।

 

शिव सेना प्रमुख बाल ठाकरे ने किंगफिशर एयरलाइंस की माली हालत पर टिप्‍पणी की है। पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे संपादकीय में ठाकरे ने कहा है कि किंगफिशर के डूबने के बावजूद माल्‍या की रईसी, उनके ऐशो-आराम और शान-ओ-शौकत में कोई कमी नहीं आई है। उनके रहन-सहन में कोई बदलाव नहीं आया है। लेकिन किंगफिशर के डूबने का सबसे ज्‍यादा असर यात्रियों और उसके कर्मचारियों पर पड़ा है।  

 


किंगफिशर बोर्ड की सोमवार देर रात चली बैठक में राहत योजना की कोई साफ तस्वीर सामने नहीं आ सकी जिसके बाद बोर्ड की बैठक मंगलवार को भी होगी।

 


किंगफिशर तकरीबन 7000 करोड़ रुपए का कर्ज लिए उड़ रही है जिसमें 14,00 करोड़ रुपए अकेले एसबीआई का कर्ज है। कंपनी को अभी तक 4300 करोड़ रुपए का घाटा हो चुका है और रोज तकरीबन 35 करोड़ रुपए का घाटा उठाना पड़ रहा है। बीते आठ दिनों के दौरान ही किंगफिशर की 200 से ज्यादा उड़ानें रद्द हो चुकी हैं। पिछले सात महीने के दौरान 100 से ज्यादा पायलट किंगफिशर एयरलाइन को अलविदा कह चुके हैं। इसके चलते कंपनी पिछले कुछ दिनों से लगातार उड़ानें रद्द कर रही हैं।

sabhar: bhaskar.com

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting