Loading...

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2011

ऐशोआराम के लिए जिस्म बेचती हैं ये छात्राएं

0


पुणे (टीएनएन) बड़े शहरों की चकाचौंध और आधुनिक जीवन शैली हमारी युवा पीढ़ी को किस गर्त में ले जा रही है उसकी भयावहता का अंदाजा शायद अभी नहीं लगाया जा रहा है। शहरों में बड़े पैमाने पर कॉलेज जाने वाली लड़कियां बेहतर और आरामपरस्त जिंदगी जीने के लिए अपने शरीर को ही दांव पर लगा रही हैं।
पुणे में हर साल पुलिस वेश्यावृत्ति के लगभग 180 मामले दर्ज करती है लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि पिछले 2 सालों में पुलिस ने प्रिवेंशन ऑफ इमॉरल ट्रैफिकिंग ऐक्ट 1956 के तहत 4 छात्राओं को गिरफ्तार किया। इस साल 2 केस दर्ज करने वाले पुलिस इंस्पेक्टर भानु प्रताप बार्गे ने बताया कि फरवरी महीने में शहर के एक होटल में छापे के दौरान पकड़ी गई लड़कियों में एक लड़की मेडिकल स्टूडंट थी और वह किसी छोटे शहर से आई थी। इसी तरह मार्च में डाले गए छापे के दौरान पकड़ी गई लड़कियों में 2 कॉलेज जाने वाली लड़कियां थीं। यह वह आंकड़े हैं जो रेकॉर्ड में दर्ज है असलियत में यह संख्या इससे कई गुना ज्यादा है।
पिछले साल भी पुलिस की सोशल सिक्युरिटी सेल ने सेक्स रैकेट चलाने वाली 2 लड़कियों को पकड़ा था जो कॉलेज स्टूडंट थीं और उन्होंने यह काम महज इसलिए अपनाया था क्योंकि वह अच्छे कपड़ों सेलफोन और महंगे होटलों में खाने की शौकीन थीं।
बार्गे ने कहा कि कॉलेज स्टूडंट्स लड़के और लड़कियां दोनों ही ऑरकुट कम्युनिटी के जरिए यह पेशा चलाते हैं। पुलिस भी ऐसी घटनाओं से स्तब्ध है।
सूत्रों के मुताबिक बहुत सारी लड़कियां अपने रूटीन खर्चों और महंगे शौक को पूरा करने के लिए ऐसे काम करने को तैयार हो जाती हैं।  स्रोत : नवभारत टाईम्स . काम 

0 टिप्पणियाँ :

एक टिप्पणी भेजें

 
Design by ThemeShift | Bloggerized by Lasantha - Free Blogger Templates | Best Web Hosting